विडम्बना : आम इंसान होने की

Posted on March 10, 2012 in Hindi, Short Stories & Poems

- देविका मित्तल :

कितने राजा आए ,

कितने शेहेनशाह गुज़रे,

पर वह वही रहा |

 

किले फ़तेह कर लिए जाए ,

या बनवा लिये जाए ताज कई,

मरता वह ही है

वह जिससे पूछा भी नहीं जाता की  वह  किसकी तरफ है,

मरता  वह ही  है |

 

किले  फ़तेह करने  में , ताज  बनाने  में,

और  मेहेंगाई में  भी,

मरता  वह ही है |

 

गलती कोई भी करे

पर हरज़ाना उसकी पूरी कौम को भरना पड़ता है

पर उसमे भी भरता वह ही है…

वह जिसका इन बातों से कोई लेना-देना ही नहीं,

वह जिसे सिर्फ अपनी रोज़ी-रोटी की चिंता होती है,

मरता वो ही है, सिर्फ वो ही |

 

मरता वो ही है,

और उसके निशान रेत पे बनते हैं ,

फिर लहरों के साथ चले जाते हैं…

 

समाप्त: इस उम्मीद के साथ की कभी शायद उसे भी ज़िन्दगी मिले | 

Youth Ki Awaaz

India's largest platform for young people to express themselves on critical issues - making best use of new media and online journalism.

Submit Your Story

Comments

You must be logged in to comment.

If you sign up with Google, Twitter or Facebook, we’ll automatically import your bio which you will be able to edit/change after logging in. Also, we’ll never post to Twitter or Facebook without your permission. We take privacy very seriously. For more info, please see Terms.

Similar Posts

#StartTheChange

Submit your story