विडम्बना : आम इंसान होने की

Posted on March 10, 2012 in Hindi, Society

- देविका मित्तल :

कितने राजा आए ,

कितने शेहेनशाह गुज़रे,

पर वह वही रहा |

 

किले फ़तेह कर लिए जाए ,

या बनवा लिये जाए ताज कई,

मरता वह ही है

वह जिससे पूछा भी नहीं जाता की  वह  किसकी तरफ है,

मरता  वह ही  है |

 

किले  फ़तेह करने  में , ताज  बनाने  में,

और  मेहेंगाई में  भी,

मरता  वह ही है |

 

गलती कोई भी करे

पर हरज़ाना उसकी पूरी कौम को भरना पड़ता है

पर उसमे भी भरता वह ही है…

वह जिसका इन बातों से कोई लेना-देना ही नहीं,

वह जिसे सिर्फ अपनी रोज़ी-रोटी की चिंता होती है,

मरता वो ही है, सिर्फ वो ही |

 

मरता वो ही है,

और उसके निशान रेत पे बनते हैं ,

फिर लहरों के साथ चले जाते हैं…

 

समाप्त: इस उम्मीद के साथ की कभी शायद उसे भी ज़िन्दगी मिले | 

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।