Youth Ki Awaaz is undergoing scheduled maintenance. Some features may not work as desired.

एक डॉक्टर जो करती हैं ज़रूरतमंदों का मुफ्त में इलाज

Posted on September 17, 2016 in Hindi, Society

website-thumbnailकुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपने रोज़मर्रा के काम के साथ समाज के प्रति अपनी ज़िम्मेदारियों को बखूबी समझते हैं और निभाते भी हैं। इसका जीता-जागता उदाहरण हैं डॉक्टर निधि मित्तल राणा जो कि आंखों से सम्बधित ऑक्युलोप्लास्टी की स्पेशलिस्ट हैं। डॉक्टर निधि ने जब अपना क्लिनिक शुरू किया को उन्होंने देखा कि जिनके पास पैसे नही हैं वो इलाज नहीं करवा रहे हैं। क्लिनिक से कई बूढ़े-बुजुर्ग लोग कंसल्टेंसी फीस सुन कर ही वापस चले जा रहे हैं। फिर इन्होंने सोचा कि क्यूँ ना अपने नॉलेज का फायदा उन लोगों तक पंहुचाया जाए जो केवल पैसे ना होने के कारण अपना इलाज नहीं करवा पाते हैं।

इसी का परिणाम है कि निधि करीब दो सालों से दिल्ली स्थित नांगलोई में राणा आईज सेंटर नाम से उनका एक क्लिनिक चला रही हैं। जिसमें वो हर गुरुवार को लोगों का मुफ्त में इलाज करती हैं। उनका कहना है कि दिल्ली में प्रदुषण के चलते लोगो में आंखों से सम्बंधित समस्याएं बढ़ रही हैं। आंखों से सम्बंधित समस्या जल्दी लोगों के समझ में नहीं आती है जिसके चलते लोग इसका जल्दी इलाज भी नही करवा पाते हैं।

ये पूछे जाने पर कि इस तरह का काम करने की प्रेरणा आपको कहां से मिली तो वो बताती हैं,  “मैं एक मध्यमवर्गीय परिवार से आती हूं। आज मैं जो कुछ भी हूं अपने दम पर हूं। जिसका ही नतीजा है कि मैं उन लोगों का दर्द महसूस कर सकती हूं। जिनके सपने पैसे ना होने के कारण अधूरे रह जाते है।” वो कहती हैं कि अगर भारत का हर एक डॉक्टर कम से कम महीना में एक फ्री-कैंप लगाना शुरू करे तो, बहुत हद तक बीमारियों की रोक-थाम की जा सकती है।

भारत में ये बड़ी समस्या है कि लोग समय-समय पर अपने शरीर का रूटीन चेकअप नहीं करवा पाते हैं। अधिकांश डॉक्टरों के पास वही रोगी आते हैं, जिनकी हालत खराब हो जाती है। साथ ही लोगों में हेल्थ और हाईजीन को लेकर आदतों में सुधार लाने की जरूरत है, जिसकी शुरुआत घर से की जा सकती है। सरकार के द्बारा स्कूल लेवल पर आंखों से सम्बंधित रुटीन चेकअप के बेसिक टूल दिये गये हैं, जिसके ज़रिये बच्चों की आंखों का चेकअप समय-समय पर किया जा सकता है।

इस तरह छोटे-छोटे प्रयास के ज़रिये हम भारत को एक उज्वल भविष्य देने की कल्पना कर सकते हैं।

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।