बांदा जच्चा-बच्चा की मौत का मामला- महीने बाद ना कोई सांत्वना ना मुआवज़ा

Posted by Khabar Lahariya in Hindi, Video
December 20, 2016

बाँदा के ओरन गाँव में एक गर्भवती महिला फूल कुमारी की मौत उसके अजन्मे बच्चे के साथ 4 नवम्बर को हुई थी। कारण थे अस्पताल और डॉक्टरों की लापरवाही और असंवेदनशील व्यवहार। दिसम्बर में खबर लहरिया के फॉलोअप विडियो स्टोरी में ये पता चला है कि फूल कुमारी के परिवार वालें कारवाई करना चाहते हैं पर इनकी सुनवाई नहीं हो रही है। वो अपनी बात पर अभी भी डटें हैं कि नर्सों और डॉक्टरों ने पैसों की मांग की थी और इस बहस के बीच जच्चा-बच्चा दोनों की मौत हो गयी।  फूल कुमारी की देवरानी रानी का कहना है कि अस्पताल और उनके कर्मचारियों के खिलाफ कारावाई होनी चाहिए और उन्हें उचित दंड भी मिलना चाहिए। इस स्टोरी से ये साफ़ पता चलता है कि ग्रामीण स्वास्थ्य और ख़ास कर के मात्रत्व स्वास्थ्य के प्रति अधिकारीयों का नजरिया कितना असंवेदनशील है।

Video Courtesy: Khabar Lahariya 

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।