झाड़ू-पोछा करते हुए किताब लिखने वाली बेबी हालदार

Posted by MailNirantar in Gender-Based Violence, Hindi, Staff Picks
December 9, 2016

समाज की दर्जाबंदी ने महिलाओं और पिछड़ी जाति के लोगों के साथ भेदभाव को बरक़रार रखा है और उनकी आवाज को दबाया है। महिला आन्दोलन में बाबा साहेब अम्बेडकर की भूमिका और जाति आधारित सामाजिक ढांचे पर उनके द्वारा उठाये गए सवाल आज भी मायने रखते हैं। उन्होंने जाति आधारित, सामाजिक ढांचे को महिलाओं के खिलाफ माना और महिलाओं को जन आन्दोलनों में शामिल होने के लिए उत्साहित किया। महिलाओं के ऊपर धर्म आधारित और धार्मिक ग्रंथो द्वारा उल्लेखित भेदभाव को उन्होंने बार–बार समाज के सामने उभारा।

बाबा साहब के शब्दों ने न जाने कितनो को अपने जीवन में संघर्ष के लिए प्रोत्साहित किया। 6 दिसंबर को बाबा साहब की पुण्यतिथी थी और उन्हीं के शब्दों से प्रेरणा लेने वालों में से एक हैं बेबी हालदार। आइए जाने बेबी हालदार के जीवन संघर्ष की कहानी उनके ही शब्दों में।

उन्होंने ‘आलो आंधारि’ नाम की किताब लिखी। वे कोई जानी मानी लेखिका नहीं, दिल्ली के पास गुड़गांव शहर के एक घर में काम करती हैं। झाड़ू – पोछा करने और खाना बनाने के साथ – साथ इसी घर में बेबी हालदार ने किताब लिखी। पहले तो वो अक्षरों से जूझती रहीं। और फिर अक्षरों से लिखे शब्दों में उन्हें अपनापन नज़र आने लगा। शायद इसी लिए उनके नीचे दिए शब्दों में सच्चाई और ईमानदारी नज़र आती है।

मेरी कहानी मेरे शब्दों में : बेबी हालदार

“बचपन में मैं अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर सकी। घर के हालात ऐसे थे कि छठी के बाद मुझे स्कूल छोड़ना पड़ा। मेरा 12वां साल लगा था कि मेरी शादी कर दी गयी। पति उम्र में मुझसे 14 साल बड़ा था। शादी के तीन – चार दिन बाद उसने मेरे साथ बलात्कार किया। वह मुझे अक्सर मारता – पीटता। कम उम्र में मेरे तीन बच्चे पैदा हुए। लेकिन एक दिन ऐसा आया जब मुझे लगा अब बहुत हो गया। मैंने अपने तीन बच्चों को लिया और घर छोड़ निकली। तीन साल पहले मुझे गुड़गाँव के एक प्रोफेसर, प्रबोध जी, के घर काम मिला। उन्हें पढ़ने का शौक था इसीलिए घर में बहुत सी किताबें थी।

प्रबोध जी के यहाँ अक्सर धूल पोछते समय मैं किताब के पन्नों को गौर से देखती। प्रबोध जी मेरे लिए कॉपी-पेंसिल लेकर आये और बोले, ‘अपने बारे में लिखो, गलती हो तो कोई बात नहीं। बस लिखती जाओ।’ मेरा इतना मन लगने लगा कि मैं लिखती गयी। रसोई घर में मैं सब्जी काटना छोड़, लिखने बैठ जाती। खाना बनाते समय भी कॉपी बगल में रहती। बच्चों को सुलाने के बाद भी मैं देर रात तक लिखती रहती। मेरे मन की बातें शब्दों का रूप लेने लगीं। लिखने से मेरा दिल हल्का हुआ। प्रबोध जी मेरी कॉपियां लगातार पढ़ते रहे। आखिर मैंने अपनी पूरी कहानी लिख डाली। प्रबोध जी ने मेरी कहानी का बांग्ला से हिंदी में अनुवाद किया। और उन्होंने उसे छपा के  ‘आलो आंधारी ‘ किताब का रूप दिया। मेरे पिता कहते हैं कि मैंने उनका नाम ऊंचा कर दिया। आलो आंधारि छपने के बाद से जैसे जिन्दगी में रौशनी आ गई है। अब मैं रोज लिखती हूँ। लिखे बिना अब रहा भी नहीं जाता। अपनी बात को मैं शब्दों में लिख सकी इस बात की मुझे खुशी है।

(लेख मूल रूप से निरंतर ब्लॉग पर प्रकाशित हुआ है)

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.

REPORT THIS POST