चूल्हा के साफ करे? लड़की! खाना के बनाए? लड़की! लड़का काहे नहीं-हाहाहा

Posted by videovolunteers in Hindi, Video, Women Empowerment
December 3, 2016

हमारे अंदर कोई दोष निश्चित समय में, निश्चित मात्राओं में दिया जाने लगे तो कुछ वक्त बाद वो गुण नज़र आने लगता है और कम से कम उसमें कोई बुराई तो नज़र नहीं ही आती। और इस पूरे मानव सभ्यता को लिंग भेद यानी जेंडर इनइक्वॉलिटी का ऐसा ही दोष सदियों तक घोल घोल कर पिलाया गया है। किसी असामनता के पूरे प्रॉसेस को शायद सबसे अच्छे से तब समझा जा सकता है जब उसकी बीज पड़ रही हो। क्या बचपन में कभी ये सवाल आपके मन से होकर गुज़रा था कि सारे काम दीदी या घर कि लड़की ही क्यों करे? कोई लड़का क्यों नहीं? अगर नहीं तो इसका सीधा जवाब यही है कि ये असमानताएं बड़ी सहजता से हमारी दिनचर्या का हिस्सा बन गई है। ये वीडियो देखिए, वीडियो वॉलेन्टियर्स ने बनाया है। 11 साल की खुशबू और उसके छोटे भाई पर ये बनाया गया है, और इस उम्र से ही जेंडर आधारित असमानता इनकी दिनचर्या बन चुकी है।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।