आखिर क्यों है नेताओ में बड़बोलापन

Posted by Madhu Bhagat
January 19, 2017

Self-Published

आज सुबह जब अपने किसी परिचित से बातचीत के दौरान नेताओ की टिपण्णी को सुना तो,कान खड़े हो उठे । मालूम हुआ कि एक बार फिर राष्ट्र गान पर सवाल उठाने वाले भाजपा के नेता  अपने विवादित बयां से खबरों में आ चुके हैं ।अब उनका ये कहना है कि ग़ांधी की वजह से खादी  का कारोबार ठप पड़ गया। अब प्रधानमंत्री आ चुके है खादी बोर्ड के केलेण्डर में तो अब खादी का कारोबार अपनी सही स्तिथि में जायेगा । उन्हें नहीं ज्ञात कि भारत के राष्ट्रपिता कहलाने वाले महात्मा गान्धी के देश को दिए जाने वाले योगदान को भुला दिया हैं । उन्हें ये सोचना चाहिए कि महात्मा गान्धी  किसी ब्रांड को लाभ या हानि पहुँचाने का जरिया नही हैं बल्कि ये देश की जनता के लिए अहिंसा का प्रतीक हैं । लेकिन नेताओ  को  ये बात समझ में नही आती हैं । हालांकि उन्होंने अपना ब्यान वापस ले लिया और माफ़ी मांगी ।

बीते वर्ष बीफ का मुद्दा छाया रहा,इस पर अनिल विज ने अपने विवादपूर्ण बयान से एक बार फिर देश में खलबली मचा दी । उन्होंने कहा कि जो लोग बीफ खाये नही रह सकते तो हरियाणा पर अपने कदम ना रखे ।
उनके दिए गए विवादपूर्ण बयान यही समाप्त नही होते, अभी तो पिक्चर बाकी है । उन्होंने नेहरू पर जासूसी करने का आरोप भी लगाया है साथ ही साथ राहुल ग़ांधी  देते हुए कहा कि राहुल गान्धी को प्रॉपर्टी डीलर बनकर वाड्रा का साथ निभाना चाहिए । बल्कि उनकी बातो से ये साफ़ झलकता है कि उन्हें नही पता कि क्या बोलना है और क्या नही । मंत्री जी ने बड़बोलापन से ये साबित कर दिया है कि उन्होंने किसी भी मुद्दे को अपने विवादित बयान से हवा देने का एक  फैशन बना लिया है ।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.