एक सप्ताह में १ फरवरी के बाद २४हजार तक की निकासी संभव।

Posted by abhishek shukla
January 31, 2017

Self-Published

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने एक महत्वपूर्ण घोषणा किया है कि 1 फरवरी के बाद एटीएम से सप्ताह में चौबीस हजार रुपये निकाले जा सकेंगे। भारतीय रिजर्व बैंक ने 16 जनवरी को घोषणा किया था कि बैंक एटीएम से पैसे निकालने की अधिकतम सीमा प्रतिदिन 4500 रुपए से बढ़ाकर 10000 हो जाएगी।
भारतीय रिजर्व बैंक ने सप्ताह में 24,000 रुपए निकासी की सीमा भले ही तय की है लेकिन लोगों के लिए यह काफी राहत भरा कदम है।
बचत बैंक खातों से 1फरवरी से  एक दिन में एटीएम से अधिकतम 24000 रुपये तक की निकासी की जा सकती है लेकिन इसके बाद एक सप्ताह तक आपका एटीएम महज एक सादे कार्ड की तरह रहेगा।
रिजर्व बैंक ने यह  सीमा केवल बचत खातों को लगाई  है।रिजर्व बैंक ने यह भी कहा कि साप्ताहिक नीतियों पर भविष्य में नए फैसले भी लिए जा सकते हैं।
रिजर्व बैंक की ओर से प्रसारित एक अधिसूचना में यह भी बताया गया है कि चालू खातों,ओवरड्राफ्ट और क्रेडिट  खातों से धन निकासी पर लागू प्रतिबंध हटाया गया है और एटीएम से धन निकासी की सीमा भी समाप्त की गई है।
केंद्रीय बैंक ने कहा है, ‘बाजार में गयी नकदी के बैंक में लौटने की गति की समीक्षा करने के बाद पूर्व की स्थिति को आंशिक रूप से बहाल करने का फैसला किया गया है.’ इसके अनुसार 1 फरवरी 2017 से एटीएम से नकदी निकासी की दैनिक सीमा नहीं रहेगी. हालांकि बैंकों से अपनी अपनी निकासी सीमा तय करने को कहा गया है जैसा कि वे 8 नवंबर 2016 से पहले कर रहे थे। सरकार ने उसी इसी दिन 1000 और 500 रुपये मूल्य के पुराने नोटों पर प्रतिबंध की घोषणा करते हुए नकदी निकासी पर विभिन्न तरह के प्रतिबंध लगाए थे, इसके साथ ही रिजर्व बैंक ने चालू खातों, नकदी ऋण खातों व ओवर ड्राफ्ट खातों से नकदी निकासी की सारी सीमाएं तत्काल प्रभाव से समाप्त करने का फैसला किया है। इसके अनुसार, ‘बचत बैंक खातों पर सीमाएं  अभी जारी रहेंगी और निकट भविष्य में इन्हें हटाने पर विचार किया जा सकता है।
सरकार और रिजर्व बैंक ने नोटबंदी के फैसले के बाद नकदी संकट के मद्देनज़र बैंकों और एटीएम से निकासी पर सीमित प्रतिबंध लगाए थे।
ज्ञातव्य हो कि बाद में 2000 और 500 रुपये के नए नोटों की आपूर्ति बढ़ाने के साथ इन प्रतिबंधों में थोड़ी ढील दी गई थी।
8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नोटबंदी की घोषणा किए जाने के बाद बैंक खातों से पैसे की निकासी सीमित की गई थी। नोटबंदी के बाद एटीएम से 2000 रुपए प्रतिदिन निकालने की अनुमति थी लेकिन इसे बाद में बढ़ाकर 2500 रुपए कर दिया गया था। निर्धारित सीमा को 31 दिसंबर 2016 को पुनः लागू किया गया  था और 1 जनवरी 2017 से लागू नियम के अनुसार यह सीमा बढ़ाकर 4500 प्रतिदिन कर दिया गया था।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.