यू.पी. के अलीगंज में हुआ दिल दहला देने वाला हादसा

Posted by JIGYASA DHIMAN
January 20, 2017

Self-Published

सुबह का वक्त था… कोहरे और सूरज की किरणों के बीच जंग छिड़ी हुई थी, जिसमे कोहरे ने जीत हासिल करके चारो तरफ अपना साम्राज्य स्थापित कर लिया था… वही दूसरी ओर, हमारे भारत को उज्जवल बनाने के लिये नन्हे-मुन्हे सितारे अपनी कमर कस रहे थे… इन छोटे-छोटे कंधो पर बस्ता टांग कर उस कोहरे को चीरते हुए स्कूल तक जाने का सफ़र इतना भयानक हो जाएगा, ये किसी को नही पता था… उस सुबह सूरज अपनी जंग इतनी बुरी तरह हार चुका था, कि अपनी किरणों को धरती तक पहुचांने में असफल हो गया, और उस सुबह की शुरुआत हुई एक गहरे अँधेरे से… वो सुबह कोई और सुबह नही, बल्कि गुरूवार यानी कल की ही सुबह थी…
यू.पी. के एटा के अलीगंज गांव में इस दर्दनाक हादसे ने जन्म लिया…. स्कूल जा रही एक बस करीब साढ़े नौ बजे एक ट्रक से टकरा गयी… जिसमे 12 बच्चों की समय पर ही मौत हो गयी और लगभग 30 बच्चे गंभीर रूप से घायल हो गये… बताया जा रहा है कि ड्राइवर ने भी उसी समय दम तोड़ दिया… सर्दी बढ़ने के कारण प्रशासन ने 20 जनवरी तक स्कूल ना खोलने का आदेश दिया था… जिसे नजरअंदाज कर स्कूल संचालको ने अपनी मनमर्जी से स्कूल खोला था… उनकी इस मनमानी का खामियाजा इतना दर्दनाक होगा, इसका किसी ने अंदाजा भी नही लगाया था …
दूसरी तरफ वो माँ- बाप जिनकी गोद सून्ही हो चुकी थी, उनके लिए ये हादसा क़ुबूल करना बिलकुल भी आसान नही था.. वो सच से वाकिफ होने के बावजूद भी इसे झुठलाने की कोशिश कर रहे थे…. उनका ये दुःख शब्दों के माध्यम से बयां नही हो सकता… एक पल में घटित हुआ ये हादसा जिंदगी भर के लिए उनके दिल पर एक जख्म छोड़ गया…उनके दिल का ये जख्म इतना गहरा था कि कोई भी मरहम इसे भरने की काबिलियत नही रखता … ना चाहते हुए भी उन्हें इस जख्म को अपनाना पड़ रहा था… हम उनके दर्द को कम तो नही कर सकते पर उन मासूम बच्चो की आत्मा को शांति मिले और ऐसे हादसे का सामना कभी किसी को ना करना पड़े, इस तरह की दुआ तो भगवान से कर ही सकते है…

(सभी तथ्य एवं आंकड़े दैनिक भास्कर से लिए गए है)

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.