कुछ ख़ास नहीं दिल्ली शहर में बस एक और रेप ही तो हुआ है

Posted by Naveen Negi in Gender-Based Violence, Hindi
February 22, 2017

यह ख़बर इतनी जरूरी भी नहीं कि आप ज्यादा गौर करें, दिल्ली में रोज होने वाली घटनाओं की तरह एक और रेप हुआ है। जैसे कि मेट्रो में रोज कुछ जेबें कटती हैं, सड़क पर कुछ लोग ट्रैफिक तोड़ते हैं, कहीं कोई ईमारत ढह जाती है उसी तरह कि एक आम सी घटना घटी है। इसे और भी ज्यादा मामूली बनाती है यह बात कि यह रेप की वारदात एक नॉर्थ-ईस्ट की लड़की के साथ हुई है।

जी हां! नॉर्थ-ईस्ट की लड़कियां जो बनी ही होती हैं हरवक्त मोलेस्ट करने के लिए, जो शराब पीती हैं, छोटे कपड़े पहनकर दिल्ली की तंग गलियों में घूमती हैं, आपके साथ ऑटो शेयर कर लेती हैं, यहां तक कि कभी-कभी तो रूम मेट के तौर पर भी शेयरिंग के लिए तैयार हो जाती हैं। उनकी ये जो शेयरिंग की आदत है ना, कमबख्त हमारी सोसाईटी के लिए बनी ही नहीं है। ये कमअक्ल लड़कियां इस बात को समझती ही नहीं और तैयार हो जाती हैं रात के वक्त किसी अंजान की कार में लिफ्ट के लिए।

इस रेप को आम बनाने वाली एक बात और है, कि यह घटना घटी है हौज खास जैसे इलाके में। हौज खास जो हाई-सोसाइटी वाला इलाका है। जहां महंगे रेस्टॉरेंट हैं-कैफे हैं-पब हैं और जब यह सब हैं तो शराब और पार्टियां तो होंगी ही। वक्त रात का है लड़की शराब पी रही है, अजनबी लोगों के साथ शराब पी रही हैं तो सेक्स तो कर ही सकती हैं। यह सब कुछ काफी है किसी को भी टेकन फॉर ग्रांटेड यानी कि आसानी से उपलब्ध समझने के लिए। और अगर वो आसानी से उपलब्ध न हो तो क्या किया जाए, उसका रेप कर दिया जाए-वही तो किया है।

लेकिन अगर वह लड़की नॉर्थ-ईस्ट से न होती, उसने शराब नहीं पी होती, वह किसी अंजान से कार में लिफ्ट नहीं लेती और अकेले ही रास्ता तय करती या मान लीजिए कि ऑटो या कैब हायर कर लेती तो क्या उसके साथ यह घटना नहीं घटती। जवाब हम सभी जानते हैं इसीलिए तो यह घटना कोई ख़ास नहीं बेहद आम सी बात है, क्राइम रिकॉर्ड के आंकड़ों में एक नंबर और बढ़ाने वाली घटना-फेसबुक पर कुछ और स्टेटस लिखी जाने वाली घटना-चैनलों पर चलने वाली 100 ख़बरों को पूरा करने वाली एक घटना

एक बेहद आम सी घटना…

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.