लिंगभेद मिटाने साइकिल यात्रा पर निकला एक बिहारी

Posted by Youth Ki Awaaz in Hindi, Society
February 5, 2017

ह‌िमानी दीवान:

बिहार के छपरा का एक 42 वर्षीय आदमी साइकिल पर पूरे देश की सैर कर रहा है। मगर इस सैर में सैर-सपाटा नहीं है, बहुत सारे सवाल हैं। इस आदमी का नाम है राकेश कुमार स‌िंह। साल 2014 में एक लड़की पर हुए एसिड अटैक ने इन सवालों को राकेश के सामने इस तरह लाकर खड़ा किया कि फिर वह जवाब तलाशने इस लंबे सफर पर निकल पड़े। तमिलनाडू, केरल, पांडिचेरी, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्रप्रदेश, उड़ीसा, बिहार, उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश में जाकर इन सवालों के जवाब तलाश चुके हैं। इन दिनों अपने सफर के 11वें राज्य महाराष्ट्र में हैं।

दिल्ली और भोपाल जैसे शहरों में रिसर्चर और कॉरपोरेट कम्यूनिकेटर जैसे पदों पर काम कर चुके हैं। उनके सवाल बहुत सरल, लेकिन तीखे हैं। वह पूछते हैं, ‘ बेटी बचाओ का नारा बुलंदी पर है, मगर कोई ये क्यों नहीं बताता क‌ि बेटी को किससे बचाना है? क्या हम ऐसे समय में जी रहे हैं, जब एक बेटी को उसी के मां-बाप से बचाने के ल‌‌िए नारा देने की जरूरत है? यद‌ि देश की आज़ादी के लगभग 70 साल के बाद भी हमारे बीच यही सवाल बाकी हैं, हमें महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों के ल‌िए अलग से लड़ना पड़ रहा है, तो फिर हमें इस आजादी पर दोबारा सोचना होगा।’

अलग-अलग राज्यों में स्कूलों, कॉलेजों, सामाजिक संस्थाओं से लेकर चाय और पान की दुकानों तक राकेश अपने इन सवालों के साथ पहुंच चुके हैं। उनके साथ सिर्फ उनकी एक साइकिल है। इस साइकिल पर एक बड़ा सा बहुरंगी झंडा है। एक टेंट है, पानी की बोतल है। एक डोनेशन बॉक्स है, एक लैपटॉप है और रोज़मर्रा का कुछ जरूरी सामान। बहुरंगी झंडे के बारे में बताते हैं, ‘यह झंडा मेरी मां ने सिलकर दिया है। इस पर बड़े अक्षरों में लिखा है ‘राइड फॉर जेंडर फ्रीडम’। इस झंडे से मुझे ये सहूलियत होती है क‌ि मैं जहां भी जाता हूं, लोग खुद-ब-खुद मेरे पास बात करने आ जाते हैं।’

अब तक वह साढ़े सत्रह हजार किलोमीटर तक साइकिल चला चुके हैं और लगभग साढ़े पांच लाख लोगों के साथ अपने इन सवालों को साझा कर चुके हैं। साल 2018 के आखिरी महीनों में बिहार के छपरा में ही उनकी इस ‘राइड फॉर जेंडर फ्रीडम’ के पूरा होने की संभावना है। तब तक वह देश के हर राज्य तक अपनी उपस्थ‌ित‌ि दर्ज करा चुके होंगे।

कौन हैं राकेश कुमार स‌िंह

साल 2014 के मार्च महीने में राकेश कुमार स‌िंह ने चेन्नई से शुरू की थी राइड फॉर जेंडर फ्रीडम। इस राइड के दौरान वह जगह-जगह जाकर लैंगिक भेदभाव से जुड़े मसलों को उठाते हैं। कहां पर लोगों की किस तरह की सोच है, इस बारे में शोध कर रहे हैं। लंबे समय तक दिल्ली और भोपाल जैसे शहरों में बतौर मीडिया रिसर्चर और कॉरोपोरेट कम्यूनिकेटर भी काम कर चुके हैं। ‘बम संकर तन गनेस’ के नाम से उनकी एक किताब भी आ चुकी हैं।

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।