ना जान ना पहचान और चाय पीने चलोगी!

Posted by Lalita Aggarwal Goyal in Hindi, Society
March 27, 2017

आप किसी को बस इतना भर ही जानते हैं कि आपने प्रोफेशनल संबंध होने के नाते अपनी कॉंटैक्ट लिस्ट में ऐड किया हुआ है। फेसबुक पर भी बार-बार फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर ये महानुभाव आपकी फ्रेंड लिस्ट में शामिल होने में सफल हो गये हैं। लेकिन डे-टुडे में उनसे आपका कोई इंटरेक्शन नहीं होता। लेकिन पुरुषों की यह प्रजाति गाहे-बगाहे आपको हैलो-हाय का मैसेज करती रहेगी। आपकी फेसबुक और वाट्स एप डीपी को लाइक और कमेंट करती रहेगी, भले ही आप उनको कोई रिस्पॉन्स न दें वो अपनी कोशिशें जारी रखेंगे।

अगर, भलमनसाहत में कभी आपने उनके हैलो-हाय का जवाब दे दिया तो वो बल्लियों उछलने लगेंगे और उनकी हिम्मत और बढ़ जायेगी। उनका अगला ऑफर न केवल आपको हैरान कर देगा, बल्कि उनके मंसूबों को भी साफ़ कर देगा। अगर आप इस दौर से गुज़र चुकी हैं तो आप समझ गयी होंगी कि उनका अगला ऑफर क्या होगा। अगर नहीं समझी हैं तो मैं बता देती हूं, उनका अगला मेसेज होगा, “चाय पीने चलोगी?”

अरे भाई कोई उनसे पूछे भला मैं उनके साथ चाय पीने क्यों जाउंगी? उनसे मेरा लेना एक न देना दो पर ज़बरदस्ती तू कौन तो मैं कौन ख्वामख्वाह वाली बात। बाई गॉड की कसम समझ नहीं आता, इन चेप विदाउट टेप आशिकमिजाज़ मजनुओं को ऐसा लताड़ने का मन करता है कि अगली बार किसी लड़की या महिला को चाय का ऑफर देने से पहले दस बार सोचें। चाय पर तो ये ऐसे इनवाइट करते हैं, जैसे रिश्ते के लिए इनकी मम्मी ने चाय पर बुलाया है।

अगर आपमें से किसी के पास इन आशिक मिज़ाज मजनूओं से निपटने का कोई फाड़ू आइडिया हो तो ज़रूर बताइयेगा, बहुत सी महिलाओं का भला हो जाएगा।

 

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।