टिवटर कर रहा है सेंसरशिप ?

Posted by Sandeep Saini
March 26, 2017

Self-Published

टिवटर कर रहा है सेंसरशिप?

सोशल मीडिया आज सामाजिक परिवर्तन का एक बडा हथियार है।

कुछ सालो पहले तक लोगो के पास ऐसा कोई माध्यम नही था, जिस पर वो अपनी बात कह सके, दुसरो के विचारो को जान सके।

पर आज जमाना बदल चुका है और साथ ही संचार के साधनो में भी क्रांतिकारी परिवर्तन हुए है।

‘फेसबुक और टिवटर इस खेल के दो बडे और मंझे हुए खिलाडी है।’

पर जब ये खिलाडी ही बल्ले से विकेट को गिरादे तब क्या होगा ?

जी हाँ हम बात कर रहे है टिवटर की जिसने शुक्रवार की सुबह विश्व के सबसे बडे छात्र संगठन ‘अखिल भारतीय विधार्थी संगठन’ और उनके कुछ प्रवक्ताओ के अकाऊंट को बिना कुछ कारण बताए सस्पेंड कर दिया।

एक नाटकीय घटनाक्रम में टिवटर इऩ्डिया ने सभी अकाऊंट सस्पेंड कर दिये फिर कुछ समय बाद फिर से बहाल कर दिये।

बीजेपी दिल्ली इकाई के प्रवक्ता तेजिन्दर पाल बग्गा ने टिवटर पर बताया कि सिर्फ एबीवीपी ही नही बल्कि संगठन के कुछ प्रवक्ताओ के भी अकाऊंट सस्पेंड कर दिये गये है।

बग्गा ने कहा ” टिवटर ने ये अकाऊंट सस्पेंड कर दिये है:

@Abvpvoice @bahugunasaket

@irahulshrmaa @dikshaaverma

@saurabhjnu @abvpdelhi

क्या अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता अब टिवटर पर स्वीकार नही है?”

बहुत से एबीवीपी समर्थको ने टिवटर से सवाल किया कि टिवटर उनकी अभिव्यक्ति की आजादी को छिन रहा है।’

एक यूजर ने लिखा कि “this is shameful @twitterindia suspends #Abvp official account, @twitter claims to be a voice…… But is busy shuttering down voices”

Abvp लगभग पिछले एक साल से चर्चा में है चाहे वो JNU हो या रामजस कॉलेज।

Abvp पर DU कैम्पस में हिंसा का आऱोप लगाया गया था।

‘गुरमेहर कौर’ ने एक विडीयो पोस्ट कर विवाद खडा कर दिया था और Abvp पर हिंसा का आरोप लगाया था।

हालाकिं Abvp ने इन आरोपो को सिरे से खारिज कर दिया है।

Abvp Activist दीक्षा वर्मा ने कहा कि ‘ मैने मेरे देश के लिये बोला है तो क्या मेरा अकाऊंट सस्पेंड कर दिया जायेगा?

उन्होनें आगे कहा कि ” मैं टिवटर से नही डरती! मैं देश के लिये लडती रहूँगी।

अब पाठको से भी एक सवाल- क्या टिवटर का अभिव्यक्ति की आजादी को दबाना सही है?

सोचिये! और हमे बताईये।

image source:twitter.com/dikshaaverma

 

 

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.