भगत सिंह के छवि का इतना समावेशी हो जाना बहुत खतरनाक है |

Posted by Pawan K Shrivastava
March 23, 2017

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

आप ध्यान से देखें तो आपको दिख जाएगा की आज देश में वो सारी प्रस्थतियाँ मौजूद हैं जो आपको भगत सिंह बनने पर मजबूर कर दें | लेकिन क्या कारण है कि हम बस उनकी तस्वीर, उनके ऊपर बनी फिल्में और उनका टी-शर्ट पहनकर ही अपना मन बहला रहे हैं | यकीन मानिए अगर आप और हम इस दौर में भी जिंदा हैं तो हम ऐसा कुछ नहीं कर रहे हैं जो भगत सिंह करते |

भगत सिंह के छवि का इतना समावेशी हो जाना और उनके विचारों का हाशिये पर चले जाना , इन दोनों बातों का एक साथ होना वाकई बहुत खतरनाक है | ये इस दौर की सबसे दुखद घटना है | ये बताता है कि हम ऐसे समय में आ गयें हैं जहां अब क्रान्ति की संभावना सब से कम है | आज भगत सिंह का शहादत दिवस है और पूरा देश उन्हें याद करने में लगा है | कल जो न्यूज़ चैनल नजीब को आईएस से जोड़ रहे थे, कन्हईया, उमर को आतंकवादी बतला रहे थे, हर बात पर सरकार का समर्थन कर रहे थे | वही न्यूज़ चैनल आज भगत सिंह का गुणगान कर रहे हैं उनको हीरो बना रहे हैं |

जो कल हमारे स्टेटस पे गालिया दे रहा था आज वो भगत सिंह को नमन कर रहा है | कल जो लोग हर बात पर मौन रहकर उसका समर्थन कर रहे थे आज वो भगत सिंह को अपना प्रोफाइल पिक्चर बना रहे हैं | आपको ये सब खतरनाक नहीं लगता है ? कोइ तो वैचारिक प्रतिबध्त्ता होनी चाहिए | हम सबको कांज्जुम कैसे कर ले रहे हैं ? हम एक साथ योगी आदित्य नाथ [केवल उदाहरण के लिए] और भगत सिंह को कैसे कंज्यूम कर सकते हैं ?

ये समाज ऐसे दौर में पहुच गया हैं जहां अब इसे किसी बात से उस हद तक फर्क नहीं पड़ता है जहां क्रान्ति या बदलाव की कोइ संभावना बची हो | हम जरुरत से ज्यादा लिबरल और नाटकीय हो गयें हैं | विचारों का ये बैलेंस बदलाव की संभवना की हत्या कर रहा है |

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.