साहब !रोमीओ इतना बुरा चरित्र तो नहीं था ।

Posted by Manoj Yadav
March 27, 2017

Self-Published

पश्चिम साहित्य के महान लेखक विल्यम शेक्स्पपियर की एक रचना जो दुनिया में प्रेम कहानी के त्रासदीपूर्ण अंत के लिए जानी जाती है । हर व्यक्ति ऐसी कहानियाँ को पढ़ता नहीं तो सुनता तो है ही । शायद आपने भी सुनी होगी ! लेकिन एक सवाल हमारे मन में बहुत आता है कि आपके ज़हन में ये शब्द ही क्यों आया ‘एंटी रोमीयो स्क्वॉड’ ।

हमें तो लगता है साहब आपका ये नाम आपकी उसी विचारधारा से मिलता हुआ लगता है जो नागपुर से विचरित हो रही है । ख़ैर जो भी है लेकिन जो व्यक्ति रोमीओ की कहानी को नहीं जानता वो तो इस शब्द को एक दम से नेगेटिव लेगा हमारी देशी भाषा में कहें तो छिछोरा ।

अब रोमीओ का प्यार छिछोरेपन का प्यार था तो क़सम से साहब हम युवाओं का प्यार से एक दम विश्वास उठ जाएगा ! सांकेतिक रूप से बहुत कुछ चलता है लेकिन संकेत के लिए शब्द का चुनाव भी होना चाहिए ।

मामला आपके फ़ैसले का आप सत्ता में हैं तो ये तो चलेगा लेकिन कल पहला दिन था आपके दल ने कुछ छिछोरे लड़कों को पकड़ा भी जो कि सही भी था । उम्मीद है कि आप अब हर उस स्थान के बाहर एक चेतावनी वाला वाक्य लिखा देंगे जैसे लिखा होता है धूम्रपान के लिए ‘१०० गज के दायरे में धूम्रपान निषेध है पकड़े जाने पर जुर्माना और जेल दोनों हो सकते हैं’ ऐसे ही आप लिखवा देंगे “२०० गज़ के दायरे में कोई रोमीओ पाया जाता है तो *** का जुर्माना साथ में लात-घूँसा भी मिलेंगे”

कल की धर पकड़ से हमें तो लगता है कि हर १०० मीटर पर लिखें देना चाहिए कि ‘ अपनी नज़रें नीचे रखें हो सक़ता है आगे स्क्वॉड वाले हों ! क़सम से साहब अब तो बाहर निकलने में आपके भक्तों को भी डर लगने लगा होगा क्यों कि ये सबसे संस्कारी लोग हैं इस जहाँ में ।

हम जैसे तो अब सोच रहे हैं कि कहीं अगर जूलीएट’ ने आकर हम से कोई पता पूछ लिया तो क्या रोमीओ ही गुनहगार होगा ?? अब तो डर लगता है साहब कोई जूलीएट चलते फिरते हमें न छेड़ दे तब क्या करेंगे । साहब एक छोटा सा सुझाव हम लड़कों का भी है एक “एंटी जूलीएट स्क्वॉड’ भी बना दो । किसी छोरे के साथ भी तो छेड़छाड़ हो सकती है ।

बाक़ी सब ठीक है आपका निर्णय सर्वमान्य है हम लड़कों की क्या औक़ात आपका विरोध करें लेकिन साहब अपने इन स्क्वॉड वालों से कह दो कि जब रोमीओ अपनी जूलीएट के साथ हो तब तो न पकड़ें । कल बहुतों को पकड़ लिया है ग़लत है न साहब जब जूलीएट अपनी मर्ज़ी से साथ आयी तो हमारा गुनाह कहाँ रह गया ?

उम्मीद है आपका ये दल सफलता पूर्वक छेड़छाड़ और बलात्कार जैसी घटनाओं को रोकेगा और महिलाएँ अब रात में भी सुरक्षित महसूस करेंगी ! और साहब हाँ अगर आपका स्क्वॉड में ही कोई रोमीओ नियुक्त हो गया तो ?ख़ैर आपके विकास के अनुकूल भविष्य की शुभकामनाएँ !

आपका एक

रोमीओ (रोमीओ-जूलीएट वाला)

 

Author-Manoj yadav (Twitter @manojyadavjee)

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.