आज गाँव के लोग भी खुश है और गाँव अब विकास की राह पर है

Posted by Gaurav Sharma
March 29, 2017

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

एक गाँव जिसकी राजनीति में उदासीनता के कारण गाँव की विकास की स्थिति दयनीय थी ।

अक्सर हमें बचपन से सिखाया जाता है कि अपने से बड़ो का सम्मान करना चाहिए कभी घमंड जैसे व्यवहार नहीं करना चाहिए समाज में आपका आचरण ही आपकी पहचान हैं ।

मैं गौरव शर्मा गाँव मंजूरगढी बरौली विधानसभा जनपद अलीगढ़ उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ । मैंने अपनी पढ़ाई दिल्ली विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र से की और एन आई आई टी कम्प्यूटर की तकनीकी शिक्षा भी भी ली। जाॅब शेयर ब्रोकिंग फर्म में मिल गया ।

सबकुछ ठीक चल रहा था कि एक माँ का फोन आया कि पिता जी गाड़ी गाँव के मोड़ पर फिसल गई और एक स्विफ्ट डिजायर वाला उन्हें टक्कर मार गया।

गाँव आया तो मन किया कि इस सड़क को बनवाना चाहिए । फिर गाँव के लोगों से मिलकर बात की तो एहसास हुआ कि गाँव विकास तो चाहता है लेकिन पहल के कोई साथ नहीं देना चाहता ।

“दिल टूट गया अकेला पड़ गया था लेकिन फिर भी हार नहीं मानी सोचा कि अगर नहीं बनी तो गाँव आने का क्या फायदा यहीं सोचकर लग गया कि कैसे बनें ।”

फिर एहसास हुआ कि प्रदेश मे अखिलेश यादव जी की सरकार है और फिर उनके लिए कार्य करना शुरू कर दिया फिर एक साल बाद सड़क के लिए पैसा भी मिला सड़क भी बन गईं । लेकिन जैसा कि सब कहते हैं विकास होना चाहिए लेकिन गाँव में यहीं हमसे ईर्ष्या का कारण बन गया गाँव के मठाधीसों का विरोध अन्दर खाने शुरू हो गया कि अब कल के लड़के राजनीति करेंगे ।

इसी के चलते यह जहर तब बढ गया जब उसी सड़क के किनारे प्रयास कर वृक्ष भी लगवाये । और खुद रात को या जब भी समय मिलता उनमें पानी भी दिया लेकिन समाज में बुराई इतना बड़ा जहर कि अच्छा काम मठाधीसो को पचा नहीं और एक बार हमारी अनुपस्थिति में गाँव की सड़क किनारे के पौधे रात में गिरवा दिये । विरोध करने दिल था लेकिन मन ने कहा किसका विरोध करूँ जिनके लिए लगाये ये थे जब उन्हें ही पसंद नहीं है तो कैसा विरोध ।

  • फिर एक वक्त के बाद समाज के कुछ लोगों को एहसास खुद हुआ और खुद ही कहा कि बेटा गलती हुई है ।लेकिन इस बार कैसे भी करके हमारे सड़क और बनवा दो किसी ने सच ही कहा है कि यदि आप अच्छाई की लड़ाई लड़े तो ईश्वर आपके साथ होते हैं ।

मैने हर सम्मान प्रयास किया श्री अखिलेश यादव जी को मिलकर गाँव की स्थिति और जरूरतमंद लोगों की स्थिति से अवगत कराया मैं उनका आभारी रहूँगा कि एक साधारण से व्यक्ति की माँग पर गाँव का विकास जनेश्वर मिश्र योजना से कराया ।

आज गाँव के लोग भी खुश है और गाँव अब विकास की राह पर है ।

 

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.