पुरानी दिल्ली रेलवे पार्सल ऑफिस ने मुझे मानसिक रुप से प्रताड़ित किया

Posted by Nikhil Anand Giri in Hindi, Society, Staff Picks
March 9, 2017

पुरानी दिल्ली मेट्रो स्टेशन पर 7 मार्च की रात जिस तरह का मानसिक टॉर्चर मैंने झेला, वो किसी न किसी भले आदमी को रेल मंत्रालय तक ज़रूर पहुंचाना चाहिए। ये छोटी-सी आपबीती उसी की कोशिश भर है। जयनगर से चली शहीद एक्सप्रेस में समस्तीपुर से मेरे कुछ घरेलू सामान की पार्सल बुकिंग थी। यहां जो ट्रेन दोपहर के बारह बजे पहुंचनी थी, रात के साढ़े ग्यारह बजे पहुंची।

पार्सल छुड़वाने का कोई अनुभव नहीं होने के कारण मैं क़रीब तीन घंटे पहले से वहां पहुंचकर पार्सल ऑफिस के आसपास के चक्कर काट रहा था। बताया गया कि आजकल मामला डिजीटल है, तो ट्रेन से सामान उतरते ही प्लैटफॉर्म से ही ले जाया जा सकता है। प्लैटफॉर्म वाला बाबू अपनी इलेक्ट्रॉनिक एंट्री करेगा। फिर प्लैटफॉर्म से कोसों दूर स्टेशन के किसी सुदूर हिस्से में पार्सल ऑफिस के काउंटर से एक गेट पास बनाकर सामान रिलीज़ कराया जा सकता है।

इसी उम्मीद से जब ट्रेन आई और मेरा सामान दिखा तो मैंने ठीक ऐसा ही किया। प्लैटफॉर्म वाले बाबू (बूढ़े बाबा) ने अपना काम तुरंत कर दिया तो पार्सल ऑफिस की तरफ दौड़ा। वहां जो बीती वो बताने लायक तो है, भुगतने लायक नहीं।

एक बुज़ुर्ग हरियाणवी मैडम आधी रात की ड्यूटी में थीं। वो समय से दस मिनट पहले आ गई थी तो अपने साथी ‘पार्सल बाबू’ की आखिरी फाइल वर्क निपटाने में मदद कर रही थीं। जो पोर्टर उनके सामने क्लियरेंस के लिए खड़ा था, उससे पूरे पारंपरिक तरीके से 100-100 रुपये बांट रही थीं। मैंने बहुत ही विनम्रता से आधी रात का हवाला देते हुए मेरा ‘गेट पास’ बनाने को कहा, तो बोली “घोड़े पर सवार होकर आया है के, अभी तो ड्यूटी शुरु भी नहीं हुई मेरी।” मैं आधे घंटे तक उनकी ड्यूटी शुरू होने का इंतज़ार करता रहा।

घूमकर आया तो देखा बाहर ताला लगा है। पता चला कि मैडम भीतर सोती हैं और सुबह पांच बजे से ही काम शुरू करती हैं। किसी तरह ताला खुला तो मैडम का कंप्यूटर भी खुला। वो छत्तीस बार कोशिश करती रहीं, मगर मेरे पार्सल की ठीक से एंट्री नहीं कर पाईं। मुझे ताने देती रहीं कि उन्हें रात को परेशान कर रहा हूं और फिर किसी दूसरे साथी की मदद से लगभग ढाई बजे छह सौ रुपए ज़्यादा देने पर एक पास बन सका। मैं पैसे देने का विरोध करता तो बोलीं, ‘कौण सा हमारी जेब में जाने हैं, ये तो सरकार का पैसा है।’ फिर स्टेशन से कहीं जाने लायक नहीं बचा। सारी रात मैंने पुरानी दिल्ली की सड़कों पर गुज़ारी।

किसी का नाम लेकर नौकरी खाने की कोई मंशा नहीं है। बस बताना चाहता हूं कि ये जो रेल मंत्री अपनी रेल को ‘वर्ल्ड क्लास’ क्लेम करते रहते हैं, वो दरअसल ‘पार्सल ऑफिस’ तक आते-आते थर्ड क्लास हो जाती है। पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के बाहर निकलते ही दिल्ली मेट्रो के दफ्तर भी हैं, जहां एक बार इन बेकार रेलवे कर्मचारियों को सज़ा के तौर पर भेजा जाना चाहिए।एक आम यात्री की पूरी रात ख़राब होने पर न इन्हें कोई मलाल होगा, न इन्हें समझ आएगा कि ये देश का कितना नुकसान कर रहे हैं। फिर भी ‘देश बदल रहा है’, ‘अच्छे दिन’ के प्रचारकों का मुंह बंद करके एक बार इन पार्सल ऑफिस तक ज़रूर भेजना चाहिए।

ये हमारी राजधानी दिल्ली के एक रेलवे स्टेशन की कहानी है, जिसे आप भारत के हर हिस्से की कहानी के तौर पर देख सकते हैं। बस वो रेलवे स्टेशन राजधानी से जितना दूर हो, उसके निकम्मेपन का अनुपात स्वादानुसार बढ़ाते जाइएगा। अब आप राष्ट्रगान के लिए खड़े हो सकते हैं।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।