जानिए लव जिहाद वाले UP के नए CM योगी से जुड़ी कुछ बातें

Posted by Prashant Jha in Hindi, News, Politics
March 18, 2017

जो प्रचंड बहुमत BJP को उत्तर प्रदेश में मिला उसका सम्मान BJP को भी करना ही था। योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री चुना जाना, इसिलिए बहुत हैरान करने वाला फैसला नहीं था। जानकार ये भी बता रहे हैं कि अगर योगी आदित्यनाथ को पहले मुख्यमंत्री घोषित कर दिया जाता तो भाजपा को और भी सीटों का फायदा हो सकता था। दो-दो उपमुख्यमंत्री नियुक्त किए जाने की बात भी नए राजनीतिक दौर का ही परिणाम है। योगी आदित्यनाथ का परिचय किस रूप में करवाया जाए इस बात को लेकर कोई परेशानी नहीं होती। ना ही किसी पत्रकार को और ना ही आम इंसान को।

उत्तराखंड के गढ़वाल का अजय सिंह बिश्ट से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के सफर में योगी आदित्यनाथ ना सिर्फ हिंदू अतिवाद का चेहरा बनकर उभरे बल्कि विवाद पुरुष भी बनें। एक वेबसाइट है www.yogiaditynath.in  जिसपर आदित्यनाथ को हिन्दू पुनर्जागरण का महानायक बताया गया है। एक और बात लिखी गई है इस वेबसाइट पर- हिंदुत्व राष्ट्र की संचेतना है। इस पर प्रहार महा प्रलय को आमंत्रण है। ये बात यहां इसलिए लिखा गया ताकि ये स्पष्ट हो जाए कि योगी अपने आप को किस रूप में  पहचाना जाना पसंद करते हैं।

गढ़वाल यूनिवर्सिटी से साइंस ग्रेजुएट होने के बाद योगी पर धर्म का रंग इतना गहरा चढ़ा कि वो गोरखनाथ मंदिर के महंत बन गए। योगी हिन्दू युवा वाहिनी के संस्थापक हैं। हिन्दू युवा वाहिनी संगठन का नाम ही 2005 के मउ दंगो में सामने आया था। योगी पर धार्मिक भावानाओं को भड़काने, धर्म के नाम पर लोगों को भड़काने, दंगा भड़काने जैसे कई संगीन आरोप हैं।

योगी से जब भी किसी पत्रकार ने पूछा कि आप कानून व्यव्स्था अपने हाथ में क्यों लेते हैं? तो जवाब एक ही रहा कि हम पहल नहीं करते लेकिन हम अपनी सुरक्षा करने के लिए आज़ाद हैं। योगी बार-बार हर जगह कहते हैं कि हम सत्य का संतुलन करना चाहते हैं और पूर्वी उत्तर प्रदेश में जिस तरह से सत्य का संतुलन किया है हमने, वैसे ही पश्चिमी उत्तर प्रदेश(मुस्लिम बहुल इलाका) में हम सत्य का संतुलन करेंगे।

राम मंदिर पर योगी आदित्यनाथ का साफ कहना है कि विदेशी आक्रांता के द्वारा राम मंदिर गिरवाई गई थी और अब वहां राम मंदिर ही बनाया जाएगा। और वो भी 5 साल के अंदर ही। योगी का कहना है कि भारत का मुसलमान एपीजे अब्दुल कलाम जैसा बने तो ठीक है।

12वी लोकसभा के सबसे युवा सांसद और लगातार 5 लोकसभा चुनाव गोरखपुर सीट से जीतने वाले योगी लव जिहाद और घर वापसी के मुद्दे पर BJP के सबसे बड़े चेहरे बनकर उभरे। लव जिहाद को देश की संस्कृति पर खतरा बताते हुए ही एंटी रोमियो स्क्वैड को योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश चुनाव कैंपेन में एक बड़ा मुद्दा बनाया।

2014 में योगी आदित्यनाथ का एक वीडियो सामने आया जिसमें योगी हिन्दू युवकों को मुस्लिम युवतियों से शादी करने की सलाह दे रहे थे ताकि जो हिन्दू युवतियां मुस्लिम युवक से शादी करती हैं उसको काउन्टर किया जा सके।

हालांकि अभी योगी आदित्यनाथ के लिए और भी विवाद इंतज़ार कर रहे थे। एक और वीडियो सामने आया जहां योगी को एक राइट विंग लीडर के साथ स्टेज शेयर करते हुए दिखाया गया जहां मंच से ये कहते हुए भाषण दिया गया कि मुस्लिम महिलाओं का शव कब्र से खोद लाओ और उनका बलात्कार करो।


हालांकि किसी भी वीडियो की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई और इन वीडियोज़ से योगी को जोड़ा गया और विवाद खड़े हुए।
एक दौर वो भी आया था जब शाहरुख को खुद को राष्ट्रभक्त साबित करना पड़ रहा था अपनी मन की बात कहने के लिए। इसी दौर में योगी आदित्यनाथ भी शाहरुख को राष्ट्रवाद की परिभाषा समझाने उतरें और शाहरुख को हिदायत दी कि इस देश की बहुसंख्यक जनता ने ही उन्हें स्टार बनाया है और ये बात उन्हें याद रखनी चाहिए। और शाहरुख की सोच, बोली और समझ को आतंकी हाफिज़ सईद जैसा बता दिया था।
योगी ने गोरखपुर में कई जगहों के नाम भी सास्कृतिक गौरव के नाम पर बदल दिया है। मसलन मिंयानगर का नाम बदलकर कर दिया मायानगर,अलीनगर का नाम कर दिया गया आर्यनगर।

इस दौर में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नारा सबका साथ सबका विकास का है तो ये देखना दिलचस्प होगा कि सबका साथ में योगी के लिए उत्तर प्रदेश के मुसलमान आते हैं या नहीं। क्योंकि अब ज़िम्मेदारी ना तो सिर्फ गोरखपुर की है और ना ही सिर्फ राम मंदिर बनवाने की। ज़िम्मेदारी उस राज्य की है जहां मुस्लिम वोटरों की संख्या सबसे ज़्यादा है। 2019 के लिए BJP का ये मास्टर कार्ड कितना काम करेगा ये जानने के लिए भी बहुत इंतज़ार नहीं करना पड़ेगा अब।

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।