अपनी भाषा व संस्कृति के प्रति ईमानदार कोशिश है ‘ललका गुलाब’

Posted by Sudeept Mani Tripathi
April 4, 2017

Self-Published

वर्तमान समय में भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री में जिस तरह गन्दगी पसरी है उससे परे निर्देशक अमित मिश्र की एक ईमानदार कोशिश है ‘ललका गुलाब’। भोजपुरी फिल्मों ने सबके मन में एक छवि बना दी है कि भोजपुरी सिनेमा में सिर्फ हिंसा, नग्नता और द्विअर्थी संवाद ही होता है। अब इसके पीछे के कारण को भोजपुरी भाषियों की अपनी भाषा व संस्कृति के प्रति उदासीनता कहें या अवसरवादी निर्माताओं की मनमानी; दोनों ही बातें पूरी तरह से मान्य हैं। फिल्म निर्देशक अमित मिश्र जो बेसिकली भोजपुरिया जवान हैं उन्हें भोजपुरी फिल्मों का यह माहौल देखकर घुटन सी हो रही थी। वो बदलाव के पक्ष में लगातार प्रयासरत रहे और जिद बना ली कि उन्हें भोजपुरी सिनेमा जगत को इन

द्विअर्थी संवादों, अश्लील दृश्यों से परे एक साफ़ सुथरी भोजपुरी फिल्म बनानी है और भोजपुरी की लड़ाई लड़नी है। पढ़ाई के दौरान ही उनके मन में एक बात बैठ गई थी कि अश्लील भोजपुरी फिल्मों व द्विअर्थी गीत-संवादों से बनी छवि उनकी/हमारी मातृभूमि बिहार और मातृभाषा भोजपुरी की असल छवि नहीं है। अमित मिश्र कहते हैं कि “जब फिल्म बनाने का मन बनाकर 2013 में मुंबई आया था तब से मन में था कि दर्शकों का स्वाद बदलना होगा। उन्होंने बहुत सालों से भोजपुरी में कुछ अच्छा ना देखकर एक दूरी सी बना ली है जिसे कम करना होगा।”
अमित मिश्र आगे कहते हैं कि “जब ललका गुलाब के लेखक सह निर्माता अश्विनी रुद्र जी ने मेरी पहली लघु फिल्म “अंडर द रॉक” देखकर मुझसे ललका गुलाब की कहानी साझा करके पूछा था कि इस कहानी पर फिल्म बनाएंगे? तभी मुझे मेरा 6 साल पुराना सपना पूरा होने की तरफ एक कदम बढ़ता हुआ दिखाई दिया और मैंने तुरंत उनसे कहा कि हम इस कहानी से भोजपुरी में अपनी बात कह सकते हैं। मुझे याद है उस दिन अश्विनी रुद्र जी से फोन पर मेरी बात 4 घंटे तक हुई थी, वो न्यू यॉर्क में रविवार की छुट्टी मना रहे थे। वो दिन है और आज का दिन है, अश्विनी जी के सहयोग और अपनी जिद से मैंने ललका गुलाब बना ली। कठिनाइयां आतीं हैं लेकिन वो मायने नहीं रखतीं, मायने रखता है तो सिर्फ परिणाम। 28 अप्रैल को उसी परिणाम का इंतजार है जब हमारे मैड मंकीज़ प्रोडक्शन के बैनर तले बनी पहली भोजपुरी लघु फिल्म जनता के बीच होगी।”
आपको बता दें कि अमित मिश्र जी की यह फिल्म आखर के यूट्यूब चैनल से रिलीज होगी। (www.youtube.com/c/ aakharbhojpuri) आप सभी फिल्म जरुर देखें और प्रतिक्रिया दें। यह फिल्म दादा-पोते के रिश्ते को दिखाने के साथ दादा का अपनी स्वर्गीय पत्नी के प्रति अटूट प्रेम को भी दिखाती है।
निर्देशक – अमित मिश्र
निर्माता – अश्विनी रुद्र, अमित मिश्र व कुणाल सिंह
लेखक – अश्विनी रुद्र
फिल्म के मुख्य कलाकार:
1. अभिषेक शर्मा – दादा जी
अभिषेक शर्मा जी पटना रंगमंच से जुड़े हुए वरिष्ठ कलाकार हैं। उन्होंने सिंह साहब द ग्रेट, नया पता, अनारकली ऑफ आरा सहित कई फिल्मों में काम किया है और ललका गुलाब में अभिषेक जी दादा का किरदार निभा रहे हैं।
2. विराट वैभव – वत्सल
विराट वैभव पटना स्थित किलकारी नामक बाल रंगमंच संस्था से अभिनय सीख रहा 10 साल का बहुत मंझा हुआ कलाकार है। ललका गुलाब से विराट फिल्मों में पहला कदम रख रहा है लेकिन आप जब विराट को अभिनय करते देखेंगे तो इस बच्चे की अभिनय क्षमता का अंदाजा लगा पाएंगे।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.