आइसा ने किया भ्रष्टाचार का भंडाफोड़, लापरवाह पदाधिकारी मौन

Posted by Kazim Irfani
April 10, 2017

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

बारसोई , कटिहार (बिहार)

आइसा ने किया स्टिंग ऑपरेशन निबंधन कार्यालय (रजिस्ट्री ऑफिस) बारसोई में अवैध वसूली का वीडियो  सोशल मीडिया में वायरल

पिछले महीने 24 मार्च 2017 (शुक्रवार) को आइसा नेता मोअज़्ज़म हुसैन ने बारसोई रजिस्ट्री ऑफिस पर अवैध वसूली पर किये गए स्टिंग ऑपरेशन का वीडियो लगातार सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

अगले दिन शनिवार को आइसा और भाकपा-माले का 8 सदस्यीय टीम बारसोई अनुमंडल पदाधिकारी फ़िरोज़ अख्तर से मिलकर मामले की तहकीकात कर वीडियो में अवैध वसूली करते दिख रहे लिपिक वर्गीय कर्मचारी और इस भ्रष्टाचार में शामिल अधिकारियों को बेनकाब करने की मांग की। बारसोई अनुमंडल पदाधिकारी ने मामले में अपनी ओर से कार्यवाई करने में असमार्थ्यता जाहिर की, इसपर शिष्टमंडलिय टीम ने कड़ा विरोध जाहिर किया।

वही सोमवार को जिलाधिकारी कटिहार ने बारसोई एसडीओ को जाँच करने का निर्देश दिया। जाँच के क्रम में एसडीओ ने वीडियो से सम्बंधित किसी भी तरह की जाँच न कर मामले की लीपापोती करते नजर आए।

आइसा के प्रदेश उपाध्यक्ष काज़िम इरफानी ने बताया कि बारसोई एसडीओ का भ्रष्टाचार के इस मामले में जिस तरह से रवैया अपनाया है हम इसकी कड़ी निंदा करते है। उन्होंने बताया कि इससे यह साफ़ जाहिर होता है कि भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कहीं न कहीं बारसोई एसडीओ की भी संलिप्तता है। रजिस्ट्री ऑफिस के रजिस्टार और बारसोई एसडीओ को तत्काल निलंबित करने की मांग जोर पकड़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि पदाधिकारी जब जवाबदेही से भाग रहे है तो उनको पद पर बने रहने का कोई ओचित्य नहीं रह जाता है।

उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन अगर इसपर करवाई नहीं करती है तो आइसा इस मुद्दे पर पूरे बिहार में आंदोलन करेगी।

वही इनोस के नेता इ. मोअज़्ज़म हुसैन ने बताया कि हमने अब घूसखोरी से सम्बंधित दूसरा वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया है। तब भी अनुमंडल से लेकर जिला प्रशासन मोन रूप धारण किये हुए है। हम भ्रष्टाचार किसी भी कीमत पर बरदास्त नहीं करेंगे। हमारा ऑपरेशन समझौता हिन है, बारसोई को बचाने की इस लड़ाई में हम कतई पीछे हटने वाले नहीं है। हमलोग मुद्दे को लेकर बारसोई के छात्र-नोजवानों तथा आम-अवाम के बीच जा रहे है। लोगों का व्यापक समर्थन भी मिल रहा है। संगठन जल्द ही इस मुद्दे को लेकर सड़क पर उतरेंगे।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.