एसएसपी ने क्यों नहीं किया दरोगा को ससपेंड ??

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

अलिगढ़: बीते दिन शुक्रवार को इंटरनेट पर एक वीडियो वायरल होने की खबर आई। इस न ही सिर्फ अलीगढ़ बल्कि पुरे प्रदेश में हड़कंप मच गया। एक बार फिर सवाल उठने लगे पुलिस के व्यवहार को लेकर। अलीगढ एसएसपी के ऊपर दबाव बनने लगा उस पोलिसेवाले को ससपेंड करने का।

*लेकिन अलीगढ के एसएसपी ने आखिर क्यों नहीं किया उस पुलिस वाले को ससपेंड।

https://youtu.be/6BRJvA43ZpE
इसमें एक दरोगा जो भीड़ के सामने सरकारी रिवाल्वर रेहराते दिख रहा है और अभद्र गाली दे रहा है। यह वीडियो वायरल ही हुआ था की समाचार और अखबारो में भी छा गया। महकमे में हड़कंप मच गया। नयी सरकार में कानून व्यवस्था की अच्छी उम्मीद लगाये जनता के सामने एक ऐसा वीडियो था। जिससे कई सवाल उठ खड़े हो रहे थे। कहीं ना कहीं उस दरोगा को ससपेंड करने की या उस पर कार्यवाही की भी मांग हो रही थी। जब मीडिया और प्रेसवालो ने एसएसपी से इस सन्दर्भ में बात करने की कोशिश की तो एसएसपी ने सीधे एक उत्तर दिया  पहले पूरा वीडियो देखकर आइये तो बात करेंगे।

ऐसा था क्या उस विडीओ में ???

असल में जब तफ्तीश हुई और एसएसपी राजेश पाण्डेय ने अपने स्तर पर जांच की तो पता चला जो दिख रहा वीडियो में सच था। लेकिन जो दिख रहा वो आधा ही सच था। वीडियो में जो दिख रहा था वो पूरे वीडियो का छोटा सा हिस्सा था। एक लड़की ने एसएसपी से शिकायत किया की उसकी शादी होनेवाली थी लेकिन दो लड़को ने व्हाट्सएप्प पर उसके बारे में अश्लीलबात फैला कर शादी तुड़वा दी। इसके बाद जांच के लिए शिकायतकर्ता के घर पहुचे दरोगा *हरेन्द्र मलिक* जब शिकायतकर्ता के घर से बाहर निकले तो वही दो लड़के बहस करने लगे और मिली भगत का आरोप लगाने लगे। थोड़ी देर बाद पुलिस से झड़प करने लगे और गाली गलौच भी चालु कर दिए। इतने में एक पुलिस वाली को एक तप्पड़ जड़। यह देखते ही दरोगा ने अपने बचाव रिवाल्वर निकाल डराने की कोशिश की जो साफ़ साफ़ वीडियो में दिख रहा था। इस घटना का एक छोटा हिस्सा ही वायरल किया गया। एसएसपी राजेश पाण्डेय की सूजबूज काम आयी और दाबाव में कार्यवाही न करने से किसी को न्याय मिला।

आप नीचे दिए हुए लिंक पर वायरल वीडियो का सच देख सकते हैं।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.