काश कुछ ऐसा हुआ होता उसके साथ

Posted by Pooja Sharma
April 10, 2017

कभी कभी यूँ ही जब

मन कुछ भारी होता है

तब कोई नहीं मेरे आस पास होता है

कभी लगता है कह डालूं में हाल ए दिल

कभी लगता है बड़ा नाजुक है ये दिल

कहीं किसी ने न समझी मेरी बात

तो टूट जाऊंगा में ले-के ख़्वाबों की सौगात

कभी लगता है कोई नहीं है मेरा

कभी लगता है व्यर्थ है जीना मेरा

कभी लगता है हार गया हूँ

कभी लगता है जी ही क्यूँ रहा हूँ

फिर लगता है ऐसा तो नहीं हूँ मैं

बाकि बातों में भी तो लड़ता हूँ मैं

फिर आज कैसे उनसे हार में मानू

चल दिल के सारे राज़ कह डालूं

पर नहीं ,नहीं करता मैं अब किसी पर विश्वास

खुद से भी हार रहा हूँ आज

कह दी कही गर ये किसी से बात

हो जायेंगे मेरे जज़्बात ज़ार ज़ार

उनकी हँसी मेरा मजाक उड़ाएगी

मेरी रुयासी आवाज़ उनको न समझ आएगी

कुछ सोचा फिर अपनी अलमारी छानी

वो पुरानी डायरी फिर से बाहर निकली

माना कि थी वो कुछ साल पुरानी

पर तब भी तो बनी थी मेरी यही कहानी

तब भी मैंने खुद दर्द और दुःख को ऐसे ही हराया था

तब भी तो मुझको लगा हर कोई पराया था

तब भी मैंने की थी उन जज़्बातों पर जीत हासिल

तब भी तो किया था मौत की सोच पर जीने का वार

तब भी तो मेरे दूर होते अपने फिर आये थे पास

तब भी तो आँसुओं से भीगा थे ये पन्ने

वो लड़कपन का पहला प्यार

तब भी तो दिल टूटा था यार

तब किस से कहा था मैंने, तब नहीं थे ये पन्ने

तब वो रेडियो साथ देता था

हर गाना मेरे दिल का हाल

तब वो दोस्त सच्चा लगता था

मेरे दिल का हर हाल वो सुनता था

वो ‘ पापा कहते हैं बड़ा नाम करेगा’ कहना

तब भी तो यह कह कर जीता था ना

जब भाई या बहिन भी कभी यूँ ही रोते थे

बस परेशान हूँ ,यही कहते थे

तब में उनको समझता था

कैसे जीना है ये बतलाता था

कभी कभी माँ पापा को भी हारा हुआ देखा है

पर फिर भी उ को हैसे कर जीते हुए देखा है

तुम हो हमारे जीने की आशा

बस यही थी उनकी भाषा

इतना कुछ इतना कुछ जब देखा सुना है

तो फिर आज मन कैसे हारा है

मैं मर जाऊंगा लोग दुःख मनाएंगे

बस कुछ ही वो दुःख जताएंगे

दो तीन दिन facebook वॉट्सएप्प पर घूमेगा मेरा वीडियो

न्यूज़ चैनल अपनी टी र पी बढ़ाएंगे

लोग आते और जाते हैं

बस फिर पूर्णतिथि मनाते हैं

कुछ नहीं किसी का जायेगा

बस माँ बाप को मेरा दुःख सतायेगा

क्यूँ हार मानू बस पल भर का ये दर्द है

हर जीवन का यही अर्थ है

लिख डाली आज मैंने फिर वही कहानी

कह डाली आज अपनी आप बीती सारी

इन पन्नो में कर दिए फिर से बंद वो दुःख भरे लम्हे

कर दूँ अब बंद खिड़की के भी पल्ले

मार दी ठोकर आज फिर उस हारे विचार को

जा रहा हूँ में कमरे से बाहर को

ली कुछ लंबी सांस, भर लिया मन में आत्म विश्वास

ले दुनिया में फिर से तैयार हूँ

लगा तू गले या मार ठोकर में बिंदास हूँ

जिंदगी तेरा शुक्रिया की तू पास मेरे आ गयी

मुझको लगाया गले तू मुझे समझ आ गयी

ए खुद तेरा शुक्रिया जो तूने समझदार बना दिया

जिंदगी खोल दरवाज़ा, मैंने तेरा नाम बना दिया
काश अर्जुन भारद्वाज की कहानी कुछ ऐसी ही होती। पर…….। अगर मेरी इन पंक्तियों को पढ़ कर कुछ हारे हुए लोगो को एक नयी राह मिल सके तो …..! जिंदगी के किसी न किसी मोड़ पर मैं और आप हम सब जिंदगी की कड़वी सच्ची से दो चार होते हैं तब मन टूटता है। जिस्म हारता है, आत्मा थक जाती है और तब होती है एक मनोरोग की उत्तपति जिसे आजकल हम डिप्रेशन कहते हैं। डिप्रेशन चुप चाप दबे पाँव आकर कब हमारे दिल और दिमाग को अपने काबू में कर लेता है हमे पता ही नहीं चलता। जब पता चलता है तब तक हम हार चुके होते हैं। अपने अपनों से, दोस्तों से समाज से दूर हो चुके होते हैं। हँसते हैं पर मन से नहीं । किसी से कुछ कहना चाहते हैं पर कहते नहीं। लगता है जैसे आँखों में आँसुओं ने हमेशा के लिए घर बना लिया है। खुद पर दूसरों से ज्यादा गुस्सा आता है। और ये गुस्सा कब हमे तोड़ कर मजबूर कर देता है कुछ ऐसा करने के लिए जो हम करना चाहते हुए भी करना नहीं चाहते। जिंदगी और मौत की लड़ाई। शायद वो एक पल का किस्सा होता है जिसमे हम बह जाते हैं। जिनको तैरना आता है वो मौत की सोच से जिंदगी की सोच तक की लंबाई को नाप लेते हैं।जिन्हें नहीं आता उनमे से कुछ लोग शायद मौत को सामने देख दर जाते हैं और जीने के लिए हाथ पैर मारने लगते हैं और इस जद्दो जहेद में कब वो भी जिंदगी को चूम लेते हैं उनको भी पता नहीं चलता । लेकिन कुछ सच में हार जाते हैं वो हाथ पैर भी नहीं मारते और फिर मौत का वो कुआँ उन्हें अपने आगोश में भर लेता है। आईये मिल कर इस मनोरोग का सामना करें । हमे इससे हार नहीं माननी है। अगर किसी को आप कभी भी टूटा हुआ , दर्द से ग्रस्त, हारा हुआ देखे तो उसे अकेला न छोड़ें। उससे पूछे क्या हुआ है। दुबारा पूछिये, फिर पूछिये। गले लगाइये । तसल्ली दीजिये और बोलिये मैं हूँ तुम्हारे साथ , तुम अकेले नहीं हो।

मनो-रोग मतलब मन का रोग जो विचारों से उत्पन्न होता है। और कहते हैं

“ मन के हारे हार है मन के जीते जीत”

तो हमे भी वही करना है अपने मन पर जीत हासिल करनी है मुश्किल है पर नामुमकिन नहीं।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.