कूलभुशन जाधव : कयो चूप है भारत ?

Posted by Harmesh Desai
April 16, 2017

Self-Published

Request to PM Narendra Modi to save Kulbhushan Jadhav

16 मार्च 1970 यही वो तारीख थी जिस दिन महाराष्ट्र राज्य मे सतारा के आनेवाडी गाँव मे भूतपुवॅ नेवल कमांडर कुलभुशन जाधव का जन्म हुआ था ।अभी कुछ ही दिन पहले 10 अप्रैल 2017  को उन्हें “फिल्ड जनरल कोटॅ माशिॅयल पाकिस्तान” द्वारा फाँसी की सजा सुनाई गई।जाधव के बारे मे पाकिस्तान का कहना हे की जाधव ‘रॅा’ के एजन्ट हैं ।

और वह बलुचिस्तान मे युवानो को पाकिस्तान के खिलाफ भड़काते थे ,एवं कई आतंकवादी गतिविधियों मे जुड़े हुए थे।लेकिन यह सारे आरोपों को साबित करने के लिए उनके पास कोई पुख्ता सबुत नहीं हैं ।भारत सरकार ने इन सभी आरोपों को नकार दिया हैं ।हमारे गृहमंत्री राजनाथ सिंह जी का कहना है की ‘जाधव को पाकिस्तानी एजेंसी ने किडनेप कर लिया और उसके बाद उन पर ‘राॅ’ एजेंट होने का आरोप बताकर मुकदमा चलाया गया’।वहीं सुषमा स्वराज जी ने इसे ‘पूर्वचिंतित हत्या’ बताया हैं ।जाधव का इतिहास इससे बिल्कुल विपरीत कुछ और ही बयान करता हैं। उनके बचपन के मित्र तुलसीराम पवार का कहना है की ‘जब कभी किसी को जरूरत पड़ती थी तब जाधव हमेशा तत्पर रहते थे’।उनही के गाँव के सदाशिव ठाकुर कहते हे की ‘जब भी जाधव गाँव आते थे तब हमेशा गाँववालो के लिए कुछ अच्छा करते  थे। 46 साल के जाधव स्वभाव से बहुत ही शांत  व विनम्र थे।

भारत सरकार के मुताबित ‘जाधव ने अपनी अवधि पूणॅ होने से पहले ही रिटायरमेन्ट

ले ली थी, और वह 2003 से इरान मे ही व्यवसाय कर रहे थे’।जाधव के खिलाफ जुठे डोकयुमेन्टस तयार कर,बिना कोई ठोस सबुत के जाधव के भारतीय सेना से जुड़े उनके इतिहास को मुद्दा बनाकर भारत पर विश्व स्तर पर दबाव डालना चाह रहें हैं , यह पाकिस्तान की एक सोची समझी साजिश हैं ।भारत सरकार ने पिछले एक साल मे 14 बार जाधव से बात करने की अपील की थी लेकिन पाकिस्तान ने सारी अपील ठुकरा दी और केवल साढ़े तीन महिनो के मुकदमे के अंदर ही उन्होंने फाँसी की सजा सुना दी जिससे भारत अपना पक्ष रख ही ना पाएँ।एसेही 2013 मे सरबजित सिंघ की पाकिस्तान की जेल मे हत्या कर दी गई थी।एसेही और एक केस मे रुपपाल साहरीया को पाकिस्तान जेल मे 26 साल काटने पड़े थे।

2014 के आकडो के अनुसार हमारे देश मे कुल 1703 राजनीतिक पाटीॅ है और इनमें से 464 तो ऐसी पाटीॅ हे जो लोकसभा चुनाव लडती हैं ।तो अब कँहा है वो 1702 पाटीॅ??कँहा है वो बड़े विद्वान चिंतक जो छोटी छोटी बातों का बड़ा मुद्दा बनाकर विधानसभा की कायॅवाही रोक देते हैं ??कहा हैं !वह राजनीतिक पक्ष जो याकुब मेमन,ईवीएम मशीन,नोटबंदी जैसे मुद्दों को महिनो तक मीडिया मे उछालते रहे??आईपीएल मे शतक बनाने वाले का हर न्युझ चेनल पर जिक्र किया जाता हैं  लेकिन पड़ोसी देश की ईस साजिश का शिकार बने कुलभुशन जाधव का कहीं जिक्र तक नहीं??जेएनयु के छात्र जाधव के लिए केंडल मार्च नहीं निकालेंगे??कन्हैया कुमार जाधव के लिए ‘आजादी’ नहीं चिल्लायेंगे??हमारे यहाँ वर्ल्ड कप जितने पर जश्न मनाया जाता हैं ,और जाधव को फाँसी सुनाने पर कोई शोक कयो नहीं??भारत ओलिम्पिक मे गोल्ड मेडल जीते,क्रिकेट या होकी मे वर्ल्ड कप जिते,कोई लोकप्रिय नेता प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री बने इसलिए हम हवन,यज्ञ आदि करवाते हैं , लेकिन हमारे कुलभुशन जाधव की हत्या रोकी जा सके इसलिए कया हमने एक पल के लिए भी आंखे बंद करके ईश्वर से प्राथॅना की हैं ??आखिर वह भी तो किसी का बेटा,किसी का भाई,किसी का पति,किसी का पिता हैं ।

केवल नेता और मिडीया की नहीं,हमारे देश के हर एक नागरिक की जिम्मेदारी हैं की देश के हित मे एवं न्याय के लिए आवाज उठाए।क्या हम इतने मतलबी हो गये हैं ,की जब कोई बात हमारे परिवार तक आएगी सिर्फ तभी हम आवाज उठायेंगे??क्या यह भारत देश हमारा परीवार नहीं हैं ??क्या कुलभुशन जाधव हमारा भाई नहीं हैं ??स्वयं विचार किजीए।।

यही सही समय है और यही सही मौका है भारत मां की इस युवा पिढी के लिए जो न्याय के लिए लड़े और पुरे विश्व को भारत की संस्कृति की झाँकी दे।भगतसिंह,चंद्रशेखर आजाद,सरदार वल्लभभाई पटेल जैसे वीरो ने देश के हित के लिए अंग्रजो की बोलती बंद करा दी थी,तो क्या हम कुलभुशन जाधव के लिए पाकिस्तान को चुप नहीं करा सकते??अपनी आवाज को और बुलंद किजीए जिससे हर एक देशवासि के दिल मे जाधव के प्रति सहिष्णुता जागे और हम जाधव को पाकिस्तान से जिंदा वापस ला सके।

हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी से सभी देशवासियों की तरफ से यही अनुरोध हैं  की आप स्वयं इस मुद्दे को अपने हाथों मे ले और कुलभुशन जाधव को बचाकर हमारे देश की गरिमा की रक्षा करे।।

।।जय हिंद।।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.