पुलिस वालों की पटाई ने पुलिस वाले के बेटे को मौत और ज़िंदगी के बीच ला खड़ा किया।

Posted by Suraj Mourya
April 3, 2017

Self-Published

कल्याण की कोलसेवाडी पुलिस ने मुंबई पुलिस के एक कॉन्स्टेबल के बेटे को इतना पीट दिया कि वह जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहा है। कल्याण के फोर्टिस अस्पताल के सघन चिकित्सा कक्ष में पीढ़ित का इलाज चल रहा है।
  क्या है पूरा मामला
बता दें कि एक अप्रैल  को महारष्ट्र के ठाणे जिले से सटे कल्याण कोलसेवाडी पुलिस ने अनिल जगताप , प्रशांत बोटे और प्रशांत काटोलकर को गिरफ्तार किया था। इनपर शिवसेना नगरसेविका माधुरी काले के पति प्रशांत काले पर जानलेवा हमला करने का आरोप है। उक्त तीनों महेश गायकवाड़ के समर्थक है। इसी सिलसिले में शिवसेना नगरसेवक महेश गायकवाड़ को भी 2 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया है।
पुलिस ने मर्जी से लिया बयान 
बताते है कि अपनी मर्जी का बयान लेने के लिए पुलिस ने अनिल जगताप की बेदम पिटाई कर दी। रविवार की शाम जगताप की तबियत इतनी खराब हो गयी कि उसे अस्पताल ले जाना पड़ा।
शहर में यह अफवाह फैल गयी कि अनिल जगताप की मौत हो गयी है। स्थानिक पत्रकार तथा अनिल जगताप के परिजनों ने अस्पताल में जमावड़ा कर दिया। देर रात पुलिस ने स्पष्ट किया कि जगताप सीरियस है।
पुलिस निरक्षक का बयान
सवांददाता से बातचीत में कोलसेवाडी पुलिस थाने के वरिष्ठ निरीक्षक कल्याणजी घेटे ने बताया कि अनिल जगताप की तबियत चक्कर आकर गिरने से खराब हुई है , पुलिस पिटाई से नही।
अनिल जगताप के पिता अर्जुन जगताप मुंबई के दादर पुलिस स्टेशन में बतौर हेडकांस्टेबल के पद पर कार्यरत है।
पीढ़ित के पिता का बयान
अर्जुन जगताप ने सवांददाता को बताया कि सहायक पुलिस निरीक्षक पी एजरे की पिटाई से उनके बेटे की ये हालत हुई है।
 बेटे की अस्पताल में भर्ती होने की सूचना पाकर जब अर्जुन जगताप अस्पताल पहुंचे तो कोलसेवाडी पुलिस के कर्मचारियों ने उन्हें बेटे से मिलने भी नही दिया।
Suraj Mourya, Mumbai
7775809642

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.