भारत में बढ़ता डिप्रेशन…

Posted by thebittumeenaab
April 5, 2017

भारत दुनिया का ऐसा देश जो जनसंख्या की दृष्टि से दुनिया में अपना दूसरा स्थान रखता है चीन के बाद सर्वाधिक जनसंख्या हमारे देश की ही है… एक तरफ तमाम आने वाली सरकारे नई नई योजनाओं को हमारे सामने लेकर आती हैं पर आज तक कोई ऐसी योजना नही आई जो डिप्रेशन जैसी बीमारी से हमे निकाल सके, इसके लिए मैं या आप सरकार को कोसे या अपने आप को? क्योकि दिन प्रतिदिन डिप्रेशन के शिकार लोगो की संख्या बढ़ती जा रही है! National Mental Health Survey 2015-16 के अनुसार भारत में प्रति 20 लोगो में से 1 व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार है!

डिप्रेशन होने की एक नही हजारो कारण हैं एक ओर किसान जो कर्ज के बोझ तले दबे हुए है और उनके निरंतर आवाज उठाने पर भी सरकारे कर्जमुक्ति नही देती, कल उत्तरप्रदेश के नए मुख्यमन्त्री ने कर्जमुक्ति का ऐलान किया इससे डिप्रेशन से शिकार लोगो में कमी आएगी यह मेरा मानना है लेकिन क्या शेष राज्यो की सरकारे इस मुहीम को आगे बढ़ाकर किसानो को डिप्रेशन से निकाल पाएंगी, शायद यह मुहीम आगे चले…

किसानो के बाद सर्वाधिक डिप्रेशन पीडितो में युवा पीढ़ी है जो शिक्षा में असफल होने, प्यार में मायूसी हाथ लगने या बेरोजगारी जैसे मुद्दों की वजह से डिप्रेशन के शिकार होते है…

आज के समय में हर एक परिवार का सपना है उसका बेटी/बेटा IIT से IIM से डिग्री लेकर अच्छी नौकरी करें इन्ही सपनो को पूरा करने के लिए वो कोटा,सीकर जैसे शहरो में भेज देते है जहाँ जाने के बाद युवा पीढ़ी पर यह सोच हावी होती जाती है की मैं पढ़ाई में 1% भी पीछे क्यू रहू, मैं(लेखक) 12वीं उत्तीर्ण करते ही परिवार के सपनो का बोझ लेकर सीकर गया जहाँ मेरे जैसे ही छात्र/छात्रा होते है, बिल्कुल गरीब परिवारो से निकलकर आई यह प्रतिभा यहाँ चमकने आते है मैं कभी कोटा में न ही पढ़ा और न ही गया लेकिन शायद वहाँ का ज्यादा न सही 20% माहौल सीकर में रहकर अनुभव किया…

जिस दौर में युवा पीढ़ी को एकदम से फ़िक्र से दूर होकर भविष्य बनाने पर जोर देना चाहिए वहाँ हम ऎसे बोझ तले दब गए होते है जो हमे सिर्फ माता पिता के सपनो को आँखों के आगे बार बार लाता है…

हम कभी बच्चों को फोन कर यह नही पूछते की आज क्या खाया क्या पिया जबकि हम यह जरूर पूछते है पिछले हफ्ते Mechanics में 10 में से 8 अंक आये थे अबकी बार कितने आये…

पूछना भी जरूरी होता है क्योकि हमारी आँखों में उन्ही अंको के प्रति सपना होता है। और यही से शुरुआत होती है डिप्रेशन की, वो तो यहाँ छात्रो के बिच ऎसे भी उनके दोस्त होते है जो रोते हुए चेहरों को चुप करने के लिए अपना कन्धा और सीना देते है की लगकर रोये और चुप हो जाये या फिर दोनों रोते है क्योकि दोनों एक ही स्तिथि से गुजर रहे होते है।

अंको की मार से ज्यादा युवा पीढ़ी संघर्ष करती है रोजगार के लिए या प्यार के लिए….

रोजगार पर मैं कुछ नही लिखना चाहता क्योंकि यह सबके सामने खुलकर समस्या है लेकिन प्यार….

एक ऐसा मीठा सपना जो बहुत कम लोगो का पूरा होता है लेकिन जिनका पूरा होता है वो भग्यशाली होते है और जिनका अधूरा रह जाये वो डिप्रेशन में चले जाते है और परिणाम मानसिक बीमारी या फिर आत्महत्या…

डिप्रेशन के शिकार लोग जब आत्महत्या तक जाते है तब लोग उन्हें कायर ठहरा देते है लेकिन मैं यह मानता हु की यह लोग पहले बहुत कुछ सहन कर चुके होते है।

इन 3 मुद्दों के जैसे हजारो मुद्दे है डिप्रेशन के लेकिन फिर भी मैं जिन स्तिथियों से गुजरा या गुजर रहा हु आपके सामने रख दिया…

यह लेख लेखक का निजी अनुभव है किसी और से लेख का कोई सम्बन्ध नही है…

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.