यूपी विधानसभा 2017 चुनाव में इस शख्स ने दिलाई थी बड़ी जीत, यह इंसान है परदे के पीछे का ‘रीयल हीरो’

Posted by Sudeept Mani Tripathi
April 13, 2017

Self-Published

अक्सर आपने फंतासी फिल्मों में या सीरियल्स में ‘हीरोज’ को मास्क में देखते होंगे। आप जरुर सोचते होंगे कि ऐसा क्यों होता है कि यह हीरो परदे के पीछे रहकर काम को अंजाम देते हैं। आइये हम आपको मिलाते हैं ऐसे ही एक ‘सुपर हीरो’ से जो परदे के पीछे रहकर ‘बड़ा गेम’ खेलने का माहिर है। उम्मीद है उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव और उसके नतीजे आप सभी के जेहन में अबतक ताजा होंगे ही। हाँ इस चुनाव में भाजपा ने अप्रत्याशित जीत हासिल की थी और विरोधियों को करारी शिकस्त दी थी। इस पूरे चुनाव के दरमियान भाजपा की असल ताकत रही उसकी सोशल मीडिया विंग मतलब ‘भाजपा आईटी सेल’ जी हाँ जिस शख्स के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं दरअसल वही वो ‘सुपर हीरो’ है जिसने उत्तर प्रदेश चुनाव के दौरान भाजपा की आशातीत सफलता के मुकाम पर पहुँचाया। स्वयं गुमनाम रहकर इस शख्स ने भाजपा को घर-घर पहुँचाने में अपनी अहम् भूमिका निभाई। वह शख्स हैं देवरिया जिले के अभिषेक पाण्डेय ‘रूपक’ जिन्होंने अपनी उम्दा रणनीति और बेहतरीन आईटी प्रोफेशनल्स टीम की बदौलत पूर्वांचल में भाजपा आईटी सेल की पकड़ मजबूत बनायीं। अभिषेक पाण्डेय वही शख्स हैं जिनके तरकश से निकले तीर ‘लक्ष्य 2017’ उत्तर प्रदेश को भेदने में सफल रहे। यूपी विधानसभा चुनाव में गोरखपुर क्षेत्र में सोशल मीडिया की टीम को लीड करने और पूर्वांचल में पीएम मोदी की रैलियों को फेसबुक और अन्य सोशल प्लेटफॉर्म पर लाइव करने का श्रेय अभिषेक पाण्डेय रूपक को ही जाता है।
आखिर कौन हैं अभिषेक –
अभिषेक पाण्डेय रूपक मूलरूप से देवरिया के रहले वाले हैं। इन्होंने 2011 में नेशनल इंटर कालेज लखनऊ से इंटरमीडिएट की पढ़ाई की। इस दौरान इनका जुड़ाव संघ से हुआ और यह संघ के लिए समर्पित स्वयंसेवक के रूप में काम करने लगे। 2012-15 तक अभिषेक देवरिया जिले के आईटी संयोजक का दायित्व बखूबी निभाया और कलराज मिश्र के प्रचार कमान को बेहतरीन तरीके से अंजाम दिया। अभी भी अभिषेक और उनकी टीम दिन-रात भाजपा को मजबूत करने में लगी हुयी है। यूपी में भाजपा की जीत के चाणक्य माने जाने वाले सुनील बंसल भी अभिषेक पाण्डेय की कार्यशैली की तारीफ कर इन्हें सम्मानित कर चुके हैं।
एक अनौपचारिक बातचीत के दौरान अभिषेक पाण्डेय रूपक जी ने बताया कि उनकी टीम ने पूरे चुनाव में बहुत मेहनत की और पूर्व की सरकारों के कामकाज के तरीकों और उनके घोटालों पर गहन रिसर्च किया और उसी लूप होल्स को हथियार बनाकर हम उनके शिकार पर निकल पड़े। हमने वन टू वन इंटरेक्शन को प्रियोरिटी देते हुए जनता से संवाद किया। हमारी टीम दो सिद्धांतो पर काम कर रही थी पहली जो केंद्र की योजनाओं का व्यापक प्रसार कर रही थी और दूसरी सपा-बसपा-कांग्रेस पर ‘मनोवैज्ञानिक वार’ कर दबाव बना रही थी। हमारी टीम शुरू से ही उनपर हावी थी और हम लगातार उनकी सरकारों के कामकाज और घोटालों को लेकर हमलावर भूमिका में थे जिससे जनता के बीच उनके खिलाफ माहौल बनाने में हमने सफलता हासिल की। अभिषेक पाण्डेय बताते हैं कि युद्ध में सबकुछ जायज होता है और हम धर्म युद्ध लड़ रहे थे और हर तरीके को अपनाने के लिए पूरी तरह तैयार थे। अभिषेक कहते हैं कि मै और मेरी टीम भाजपा को मजबूत बनाने के लिए दिन-रात मेहनत कर रही है। यह रोमांचित करने वाला अनुभव है कि हम महज एक पार्टी के लिए नहीं अपितु देश के लिए काम कर रहे हैं।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.