योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने किसानों का एक लाख रुपये तक का कर्ज माफ कितना सही

Posted by Awais Usmani
April 5, 2017

Self-Published

अवैस अहमद उस्मानी

उत्तर प्रदेश में मुख्‍यमंत्री योगी अदित्‍यनाथ मंत्रिमंडल ने अपनी पहली बैठक में चुनाव में किसान के क़र्ज़ माफ़ी के वादे को पूरा करते हुए प्रदेश के दो करोड़ 15 लाख किसानों को फायदा देते हुए 36,359 करोड़ रुपये का कर्ज माफ करने का अहम फैसला लिया| इससे छोटे और सीमांत किसानों को बड़ा फायदा मिलेगा. सरकार ने किसानों का एक लाख रुपये तक का कर्ज माफ किया है. सरकार ने किसानों द्वारा किसी भी बैंक से लिया गया फसली कर्ज माफ किया है| इसके लिए सभी किसानों के खातों में फौरन भुगतान किया जाएगा |

यूपी में सत्ता में आने के बाद से ही एक्शन में दिख रहे मुख्यमंत्री योगी पहले ही दिन से चर्चा में हैं कभी एंटी रोमियो दस्‍ते को लेकर तो कभी बूचड़खानों को बंद किए जाने के अपने सख्त फैसले को लेकर तो कभी सरकारी बाबुओं के पान पर बैन लगा कर | लेकिन सरकार का किसानों का क़र्ज़ काफी का कदम सराहनीय भी है क्योंकि चुनाव की शुरुआत से लेकर चुनाव के अंत तक कांग्रेस लगातार किसानों की कर्ज़े को लेकर केंद सरकार को घेरती रही इसी बीच चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री मोदी द्वारा एलान किया गया था कि बीजेपी की सरकार बनेगी तो उसकी कैबिनेट की पहली बैठक में छोटे और सीमांत किसानों का कर्ज़ा माफ किया जायेगा| जिसको लेकर उस वक़्त राहुल ने कहा था कि केंद्र की मनमोहन सरकार ने 2008 में किसानो के साठ हज़ार करोड़ क़र्ज़ माफ़ किया था| उस समय उत्तर प्रदेश के किसानों को भी फायदा हुआ था|

अब जब प्रदेश की भाजपा सरकार ने अपना क़र्ज़ माफ़ी का वादा पूरा कर दिया है तो अब प्रदेश की पिछली सरकार और कांग्रेस के लिए प्रदेश की सियासत का दरवाज़ा बंद होता नज़र आ रहा है | पहले से ही सियासत में हाशिये पर जाती नज़र आने वाली कांग्रेस सत्ता में वापसी के लिए किसानों का सहारा लेती दिख रही थी लेकिनं अब उसका यह विकल्प की समाप्त होता नज़र आ रहा है| यह क़र्ज़ माफ़ी सिर्फ चुनावी वादा पूरा होना नहीं है| इसको भाजपा की 2019 की चुनावी रणनीति की तैयारी का एक हिस्से के रूप में भी देखा जा सकता है| भाजपा किसानों के बीच भी अपनी पकड़ बना कर रही है जो अभी तक सिर्फ कांग्रेस की ही हुआ करती थी|

आपको बता दें कि 16 मार्च के फाइनेंशियल टाइम्स में कर्मवरी सिंह ने लिखा कि छोटे और सीमांत किसानों को सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंकों ने 85,000 करोड़ का लोन दिया है| हलांकि सरकार ने 85,000 करोड़ क़र्ज़ तो नहीं लेकिन 36,359 करोड़ रुपये का कर्ज माफ करने का अहम फैसला लिया| जिससे प्रदेश के दो करोड़ 15 लाख किसानों को फायदा होगा| लेकिन अभी भी प्रदेश के किसानों पर 48,641 करोड़ रुपया का क़र्ज़ बचा है उसका का होगा| लेकिन इस क़र्ज़ माफ़ी से प्रदेश के किसानों को लाभ तो हुआ है और प्रदेश के किसानों में ख़ुशी की लहर है|

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.