योगेश शुक्ल के बरसो के लड़ाई का अंजाम . . . .

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.


संघर्ष के दौरान की एक झलक


इलाहाबादजनपद के मेजा तहसील स्थित दशकों से बन्द पड़ी मेजा कताई मिल को पुनः चालू कराने हेतु भारतीय मजदूर संघ से सम्बन्धित कताई मिलों के श्रमिक यूनियनों का एक प्रतिनिधि मंडल भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं रेलयात्री सुविधा समिति के सदस्य योगेश शुक्ल के नेतृत्व में उ.प्र सरकार के उद्योग मंत्री सतीश महाना से मिलकर मांग पत्र सौंपा।


उल्लेखनीय है कि बन्द पड़ी कताई मिलों को चालू कराने, खाली पड़ी जमीन का उपयोग राष्ट्र हित में करने, श्रमिक समस्याओं का समाधान व मिलों के पुनः निर्माण की दशा में कार्य करने हेतु माँग पत्र दिया। श्री शुक्ल ने कहा कि विरोधी दलांे की सरकारों के शासन में जैसे-जैसे प्रदेश बीमार राज्य बना वैसे-वैसे प्रदेश के उद्योग भी बीमार होकर बंद हो गये, जिससे राष्ट्रीय क्षति के साथ ही श्रमिकों का उत्पीड़न व शोषण हुआ। रोजगार के अभाव में कुशल श्रमिकों का पलायन हुआ, इन मिलों को चलाने में घाटा नहीं था वरन नौकरशाहों द्वारा घोटाला किया गया था। गांधीजी के सूत कातने के अनुपालन में प्रदेश के विभिन्न भागों में स्थानीय श्रमिकों को रोजगार देने के उद्देश्य से तत्कालीन मुख्यमंत्री स्व. बी.पी सिंह के कार्यकाल में मेजा कताई मिल स्थापित की गयी थी।

श्री शुक्ल ने कहा कि मेजा कताई मिल बन्द होने से लगभग दो हजार श्रमिक भुखमरी के कगार पर पहुंच गये हैंे। बन्द पड़ी कताई मिल को चालू कराने हेतु भाजपा नेता योगेश शुक्ल प्रतिनिधि मंडल के साथ 17 अप्रैल को पुनः उद्योग मंत्री से मिलेंगे तथा मिल को पुनः चालू कराने हेतु आवश्यक पहल करेंगे

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.