कैसे क्लाइमेट चेंज को हथियार बना रहा है ISIS और बोको हराम

ब्रिटिश अखबार द गार्डियन में छपी खबर में जर्मनी के विदेश मंत्रालय द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट के हवाले से कहा गया है कि जलवायु परिवर्तन (Climate Change) आतंकवाद को और बढ़ाने का काम करेगा। बोको हराम और इस्लामिक स्टेट (ISIS) जैसे आतंकवादी संगठन इसका फायदा उठाकर ज़्यादा से ज़्यादा लड़ाकों की भर्ती कर सकेंगे।

जर्मन सरकार द्वारा सहायता प्राप्त बर्लिन थिंकटैंक एडेल्फी की रिपोर्ट में बताया गया है कि बोको हराम और इस्लामिक स्टेट (ISIS) जैसे आतंकवादी संगठन जलवायु परिवर्तन के कारण उत्पन्न होने वाली प्राकृतिक आपदाओं (पानी और खाद्यान्न की कमी) का फायदा उठाएंगे। इससे आतंकवादी संगठन आसानी से अपने संगठन में लड़ाकों की भर्ती कर सकेंगे। साथ ही, वे ज़्यादा आज़ादी से काम कर सकेंगे और आबादी के एक बड़े तबके पर नियंत्रण रख सकेंगे। आतंकी समूह भर्ती के लिए प्राकृतिक संसाधनों (पानी की आपूर्ति और भोजन आदि) पर नियंत्रण कर उनका हथियार के तौर पर इस्तेमाल कर रहे हैं।

नाइजीरिया में बुरी स्थिति:

अफ्रीकी देश जैसे नाइजीरिया और सोमालिया एवं पश्चिम एशियाई देश सीरिया, इराक और यमन में स्थिति तनावपूर्ण होती जा रही है। नाइजीरिया के एक बड़े भाग में आतंकवादी संगठन बोको हराम का नियंत्रण है।

उत्तर-पूर्वी नाइजीरिया में चाड झील (लेक) के क्षेत्र के आस-पास बोको हाराम की स्थिति काफी मज़बूत है। आंकड़ों के मुताबिक, नाइजीरिया की 71.5% जनसंख्या गरीबी में जी रही है और 50% से ज़्यादा आबादी कुपोषण की शिकार है। नाइजीरिया में सरकार की स्थिति और उसके शासन की बात करें, तो वहां सरकार काफी कमज़ोर अवस्था में है।

ऐसी स्थिति में आतंकी संगठन प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल अपनी सुविधा के हिसाब से करते हैं। सधारण सी बात है, एक देश जहां रोज़गार नहीं है, भोजन की उपलब्धता नहीं है और सरकार का नियंत्रण नहीं है, ऐसे में आतंकी संगठनों द्वारा उस क्षेत्र के लोगों का दुरुपयोग करने की संभावना काफी अधिक बढ़ जाती है। आतंकी संगठन इन्हीं क्षेत्रों में रहने वाले आम लोगों को अपनी ढाल बनाकर अपने हितों की पूर्ति करते हैं।

सीरिया में 6 वर्षों से चल रहा गृह युद्ध, सूखे और भुखमरी की कगार पर 

सीरिया एक देश, जो करीब 6 वर्ष पहले आज के मुकाबले काफी अच्छी स्थिति में था,  लेकिन आज सीरिया को गृहयुद्ध से जूझते हुए 5 वर्ष हो चुके हैं। इसी दौरान, सीरिया में आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (ISIS) भी काफी मज़बूत स्थिति में पहुंच गया। इन्हीं कारणों के चलते सीरिया इतिहास के सबसे बुरे दौर में आ पहुंचा है, जहां देश सबसे खराब और व्यापक सूखा एवं भुखमरी का सामना कर रहा है। इसकी वजह से हज़ारों लोगों को अपने घरों से विस्थापित होना पड़ा और लाखों लोग गरीबी के निम्नतम स्तर पर पहुंच गए और वे सभी खाद्य असुरक्षा का सामना कर रहे हैं।
संयुक्त राष्ट्र (UN) की एक रिपोर्ट में बताया गया था कि सीरिया में ISIS पानी का हथियार के तौर पर इस्तेमाल कर रहा है और वह बांधों पर नियंत्रण कर अपने दुश्मनों को नुकसान पहुंचाकर अपने कब्ज़े वाले क्षेत्र को बढ़ाना चाहता है। 2015 में सीरियाई सेना पर असानी से हमला करने के लिए ISIS ने रामादी बांध के गेट को ही बंद कर दिया था, ताकि सेना को पानी की आपूर्ति ही ना हो सके। इसके अलावा, पानी पर टैक्स लगाकर आतंकी संगठन अपनी फंडिंग भी कर सकते हैं। ISIS ने सीरियाई शहर रक्का में यही काम किया था। कुछ जगहों पर ISIS ने पानी की आपूर्ति को बंद नहीं किया बल्कि उसने लोगों को घरों से निकालने के लिए बांध के पानी को बाढ़ की तरह इस्तेमाल किया।
 
खुद के लिए भोजन नहीं जुटा पा रही है यमन की दो-तिहाई जनसंख्या
संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, पश्चिम एशियाई देश यमन की कुल जनसंख्या 2.74 करोड़ में से करीब दो-तिहाई लोग खुद के लिए भोजन नहीं जुटा पा रहे हैं और 73 लाख लोगों को आपात मदद की ज़रूरत है। यमन में लोगों तक सहायता पहुंचाने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने विश्व समुदाय से करीब ₹140 अरब की मदद की अपील की है। 
 
बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, युद्ध के कारण यमन में पिछले 2 वर्षों में बच्चों में कुपोषण 200% बढ़ा है। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, यमन में 1.4 करोड़ लोगों को भोजन की उपलब्धता नहीं है। इसके अलावा, 50% चिकित्सकीय सुविधाएं वहां अब काम नहीं कर रही हैं। ऐसी ही स्थिति कई अन्य देशों (इराक, अफ़ग़ानिस्तान, सोमालिया और सूडान आदि) में भी है।
नतीजन यह कहा जा सकता है कि केवल जलवायु परिवर्तन ने ही आतंकवाद को नहीं बढ़ाया, बल्कि इसने एक ऐसे वातावरण का निर्माण किया जहां आतंकवाद तेज़ी से फल-फूल सकता है और मौजूदा तनाव व संघर्ष को बढ़ा सकता है। गार्डियन में छपी खबर के मुताबिक, दुनिया भर में अमेरिका से लेकर ब्रिटेन, यूरोप और एशियाई-प्रशांतमहासागरीय देशों तक की सेनाओं ने जलवायु परिवर्तन से उत्पन्न होने वाली समस्या को रेखांकित किया है और इसके बुरे प्रभाव को उजागर किया है।
जलवायु परिवर्तन पर ग्लोबल मिलिट्री एडवाइज़री काउंसिल ने भी चेतावनी देते हुए कहा है कि जलवायु परिवर्तन की वजह से “अकल्पनीय पैमाने पर” बड़े पैमाने पर शरणार्थियों की संख्या में बढ़ोतरी होगी और यह “21 वीं सदी का सबसे बड़ा सुरक्षा खतरा” हो सकता है।” पूर्व अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस भी कह चुके हैं कि जलवायु परिवर्तन के कारण अमेरिकी सेना के लिए एक बड़ा खतरा उत्पन्न हो गया है।
फोटो आभार: uploads.guim.co.uk और Ron Paul

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.