शहीद गुरुशरण छाबड़ा की निडर सिपाही पूजा छाबड़ा पर पूरे राजस्थान को गर्व हैं

Posted by Dev Sharma
May 26, 2017

Self-Published

राजस्थान जो हमेशा से वीरो और वीरांगनाओ का स्थल रहा हैं वो आज कल शराबबन्दी के व्यापक आंदोलन को लेकर चर्चा में हैं, शराबबन्दी आंदोलन के लिए आमरण अनशन करते हुए अपनी जान दे देने वाले शहीद गुरुशरण छाबड़ा की पुत्रवधु पूजा छाबड़ा ने उनके मिशन को राजस्थान के गांव गांव गली गली पहुँचाया हैं और राजस्थान को शराबमुक्त कराने के लिए अपने संगठन जन क्रांति मंच के बैनर तले गांधीवादी तरीके से पुरजोर आंदोलन चला रही हैं, जिसका समर्थन देश के कई हिस्से से लोग कर रहे हैं जब ये आंदोलन गति पकड़ रहा था ठीक उसी समय 15 मई की रात उनपर जानलेवा हमला किया गया पूजा छाबड़ा जी को गम्भीर चोट आई उनके निजी सचिव और संगठन के युवा पदाधिकारी भी इस हमले में घायल हुए उनपर हुए हमले की खबर फैलते ही उनके समर्थकों में रोष और तनाव व्यापत हो गया संगठन के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री देव शर्मा बताते हैं कि हमले की खबर लगते हैं हम सब स्तब्ध रह गए हमें उम्मीद नही थी की ये भी हो सकता हैं पर ऐसे समय पर भी कार्यकर्ताओ को समझाबुझा कर शांत किया गया और कोई उत्तेजनात्मक कार्यवाही नही की गयी परन्तु खेद का विषय हैं कि सरकार प्रशासन ने आज हमलावरो को नही पकड़ा हैं,अस्पताल में कई दिन सँघर्ष करते हुए पूजा छाबड़ा जी ने केवल यही कहा कि अंतिम सांस तक मैं शराब बंदी के लिए संघर्ष करुँगी और पीछे नही हटूंगी, पूजा छाबड़ा पर जिस तरह से कायराना हमला हुआ उसकी गूंज जंतर मंतर तक सुनाई दी कई संगठन के लोगो ने ने इस कृत्य की निंदा करते हुए सरकार से जाँच की मांग की अब बड़ा विषय ये हैं कि अगर ऐसा ही माहौल रहा तो कल कोई बड़ी अप्रिय घटना भी घट सकती हैं जिसकी चपेट में कोई भी सामाजिक कार्यकर्ता आ सकता हैं पूजा छाबड़ा के हौसले ने उन्हें टूटने नही दिया और वो एक बार फिर तैयार हैं अपने मिशन पर निकलने के लिए पर सरकार को कुम्भकर्णी नींद से जग कर ऐसे सामाजिक आंदोलन चला रहे लोगो की सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था करनी चाहिए, 9 जून को शहीद गुरुशरण छाबड़ा जी का जन्मदिवस हैं लोगो में चर्चा हैं कि इस दिन पूजा छाबड़ा और उनकी टीम कोई बड़ा निर्णय ले सकती हैं जो राजस्थान के लिए एक बड़ा बदलाव लायेगी

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.