एसएफआई-एआईएसएफ के छात्रों ने बिहार बंद के दौरान किया प्रदर्शन व चक्का जाम

Posted by Alok Kumar
June 8, 2017

Self-Published

छपरा। एसएफआई तथा एआईएसएफ के राज्य कमिटीयो के संयुक्त तत्वाधान मे आहुत राज्य व्यापी बिहार बंद को सफल बनाने के लिए हजारो कार्यकर्ता रोड पर उतरे एव बंद को सफल बनाये ।सबसे पहले एसएफआइ के बैनर तले जिला सचिव शैलेन्द्र यादव के नेतृत्व मे सैकडों की संख्या मे छात्रों ने बजरंग नगर से जत्था निकाला तथा सभी कोचिंग संस्थानों एवं दुकानों को बंद कराते हुए दरोगा राय चौक पहुंचे जहाँ चौक को लगभग एक घण्टे तक जाम कर यातायात को बाधित किया गया।पुनः जत्था मालखाना चौक,बस स्टेड होते हुए थाना चौक पहुंचा जहा घण्टों यातायात बाधित कर कई जिला स्तर के पदाधिकारियों के गाड़ी को भी रोका गया जिस वजह से उनलोगो को मजबूर होकर सडक पर गाडी छोड़ पैदल जाना पडा ।थाना चौक से एस०एफ०आई० छात्रों का जत्था नगरपालिका चौक ,योगिनिया कोठी होते हुए कचहरी स्टेशन पहुंचा रेलवे ट्रैक को जाम किया गया ।सिवान की तरफ जाने वाली मालगाडी तथा हाजीपुर की ओर जाने वाली मौर्या एक्सप्रेस को निशाना बनाया गया तथा ट्रैक पर रोका गया जिस दौरान एस०एफ०आई छात्र नेताओ तथा रेल प्रशासन के बीच नोक झोक एव झडप भी हुई वावजूद इसके गाडियों को रोककर प्रदर्शन किया गया ।20170608_114501(0)_resized

आंदोलनकारी छात्रों को सम्बोधित करते हुए जिला सचिव शैलेन्द्र यादव तथा अध्यक्ष विकास तिवारी ने एक स्वर से यह ऐलान किया कि अगर सरकार कापियो का पुनर्मूल्यांकन तथा दोषियो के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर जेल के अंदर नही डालती है तो पुरे प्रदेश मे उग्र आंदोलन होगा जिसकी सारी जबाबदेही राज्य सरकार की होगी ।जिला संयुक्त सचिव संघर्ष रंजन ने कहा कि परीक्षा परिणाम सरकार की गलत शिक्षा नीति का पोल खोलती है।वही नगर मंत्री अर्जुन सिंह ने कहा की सरकार को शीघ्र ही छात्रों के उज्ज्वल भविष्य के पक्ष मे निर्णय लेकर पुनर्मूल्यांकन का काम शुरू कर देना चाहिए । आंदोलन मे एसएफआई के नीतीस कुमार,रिजवान रब्बानी,शाहबाज खान,आशुतोष कुमार,दिपक कुमार,कृष्णा कुमार,विष्णु शरण तिवारी,प्रिंस उपाध्याय ,दिपक भारती,आलोक कुमार,फरीद खान,सरताज खान तथा एआईएसएफ के जिला सचिव राहुल यादव,अध्यक्ष विकास कुमार,राजीव नयन,दिपक शार्मा,अनुप कुमार  शामिल थे ।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.