“मुझे यौन सुख देने के बदले एक बड़ा अमाउंट मिलता है”

Posted by 101reporters in Hindi, Sex Work, Specials
June 29, 2017

मुंबई में रह रहे आकाश (बदला हुआ नाम) ने 4 साल पहले आर्थिक तंगी के कारण अलग-अलग करियर ऑप्शन ढूंढना शुरू कर दिया। उसी दौरान 28 वर्षीय आकाश को उसके एक दोस्त (जो एक सेक्स वर्कर था) ने इस क्षेत्र में आने की सलाह दी, जिसके ज़रिए वो एक विलासिता की ज़िन्दगी जी सकते थे।

रिपोर्टर को अपने काम के बारे में बताते हुए आकाश कहते हैं, “मुझे यौन सुख देने के बदले एक बड़ा अमाउंट मिलता है। पैसे को देखते हुए ही अपने दोस्त की सलाह पर मैं इस फील्ड में आया।

आकाश को एक रात के लिए 6000 से लेकर 25000 रुपए मिलते हैं, निर्भर करता है कि आकाश किसके साथ रात गुज़ार रहे हैं। सामान्यत: आकाश को प्रति रात 10,000 से ऊपर की ही कमाई होती है। आकाश का दावा है कि पिछले 3 सालों से इस व्यवसाय में रहते हुए आज उनके पास अच्छे ग्राहकों की एक लिस्ट बन चुकी है। इसके साथ जो अनुभव प्राप्त हुआ है वो अलग है।

अपने ग्राहकों के बारे में बताते हुए आकाश कहते हैं, “मुझे ऐसा महसूस होता है कि मेरे ग्राहकों की शादी एकतरफा है, उनके साथी का कोई मतलब नहीं। उन्हें अपनी शादी में ना ही सैटिस्फैक्शन मिला है और ना ही प्यार। वे औरतें अपनी अहमियत बढ़ाना चाहती हैं, साथ ही अपनी यौन ज़रूरतों को भी पूरा करना चाहती हैं। मैं घरेलू महिलाओं के साथ बेड शेयर करता हूं, कॉरपोरेट घरानों की औरतों के साथ बेड शेयर करता हूं, कुछ एयर हॉस्टेस भी होती हैं तो कुछ कॉलेज की स्टूडेंट्स भी। सबकी अलग-अलग कहानियां होती हैं मगर ज़रूरत सबकी एक ही होती है। सबके साथ बॉयफ्रेंड या उनके पार्टनर का बुरा अनुभव होता है।

आकाश ने अपनी एक रेगुलर क्लाइंट के बारे में बताते हुए कहा, “वो मुंबई के एक पॉश इलाके में रहने वाली संपन्न परिवार की औरत है। उनकी शादी 9 साल पहले ही हो गई थी। उनके पास लग्ज़री कार है, बहुत सारे बंगले हैं और महाराष्ट्र में एक बड़ा सा प्लॉट भी है।” आकाश ने बताया कि वो अक्सर उनसे मिलती है और आकाश के साथ ऐसे बर्ताव करती है जैसे वो उनका पति हो। आकाश ने बताया, “वो मुझे अपनी शॉपिंग की चीज़े  दिखाती है, जो उसने हाल ही के दिनों में खरीदी है। मुझसे इस तरह बातें करती है, जैसे कि मैं उनके बच्चों का पिता हूं।” आकाश ने ये सारी बातें मुस्कुराते हुए बताई।

आकाश ने अपनी एक और ग्राहक के बारे में बताया जो एक कॉलेज जाने वाली लड़की है। आकाश ने बताया, “उससे मेरी मुलाकात पिछले साल क्रिसमस के दौरान हुई थी। उसने मुझे 7000 रुपए में हायर किया था। उसने अपनी सर्विस के अलावा हमारे डिनर के पैसे भी दिए। उसने उस रात अपने बॉयफ्रेंड के बारे में भी बताया। उसने बताया कि उसके बॉयफ्रेंड ने लंबे समय से साथ रहने के बाद उसे धोखा दिया है। बिस्तर में लेटे हुए वो अपने बॉयफ्रेंड के बारे में बात करती रही, मेरे सीने पर सिर रखकर सारी बातें बताती रही, वो तब तक बोलती रही जब तक उसे नींद नहीं आ गई। उस लड़की के साथ वह मेरी पहली और आखिरी मुलाकात थी। प्यारी लड़की।” ये बोलते हुए आकाश पुरानी यादों में खो गए।

आकाश ने बताया कि वो अपने प्रोफेशन को अपने सोशल सर्कल से हमेशा अलग रखने की कोशिश करते हैं। उन्हें चिंता रहती है कि अगर उनके परिवार या दोस्तों को उनके काम के बारे में पता चल गया तो उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। उन्हें डर है कि सच्चाई सामने आने पर शायद वे लोग उनसे दूर चले जाएंगे। आकाश ने अपने एक दोस्त (जो कि इसी प्रोफेशन में है) के बारे में बात करते हुए कहा, “वो डिप्रेशन के लिए दवाईयां लेता है, उसे इस बात का डर है कि उसके परिवार वाले उसके प्रोफेशन के बारे में पता चलने पर उसे शायद ना अपनाएं।” आकाश ने कहा कि उसे इस तरह की कहानियां अक्सर सुनने को मिलती है। लेकिन यह एक व्यावसायिक खतरा है जिनके साथ उन्हें रहना ही होगा।

आकाश ने Youth Ki Awaaz को बताया कि उसके जैसे स्वतंत्र सेक्स वर्कर बहुत कम ही देखने को मिलते हैं। ज़्यादातर लोग नेटवर्क के ज़रिए काम करते हैं। अमूमन लोग मसाज पार्लर और फ्रेंडशिप क्लब जैसे जगहों के ज़रिए काम करते हैं। इन जगहों से शुरुआत करने वाले लोगों को पहले एक-दो सप्ताह ट्रेन किया जाता है उसके बाद उन्हें काम मिलता है।

आकाश का कहना है कि इन पार्लर और मसाज सेंटर में दिकक्त यह है कि वहां मोटा कमीशन चार्ज किया जाता है। मेल सेक्स वर्कर के पीछे जितने एजेंट होंगे, उन्हें व्यक्तिगत स्तर पर पैसे उतने ही कम मिलेंगे। आकाश का कहना है कि हमारा सफर इतना सफर नहीं है। इस नेटवर्क से जुड़े बहुत से सेक्स वर्कर्स कम इनकम की वजह से इस फील्ड को छोड़ देते हैं।

जहां तक इस फील्ड की बात है तो यहां जमे रहना इतना आसान नहीं है। आकाश का कहना है कि मैं मानता हूं कि पितृसत्तात्मक समाज में महिलाओं को कई मायनों में मुश्किलें होती हैं, लेकिन इस विशेष पेशे में, वे पुरुषों की तुलना में बेहतर कमा सकती हैं। अगर एक मेल और फिमेल सेक्स वर्कर की तुलना करें तो एक महिला को उनकी सुंदरता और उम्र के हिसाब से हाई पेइंग क्लांइट मिल सकता है, जिसके ज़रिए वो एक रात में लाखों कमा सकती हैं। जबकि एक पुरुष सेक्स वर्कर को इतना कमाने के लिए कम-से-कम पांच से छह असाइनमेंट की ज़रूरत होती है। कभी-कभी तो महीने दो महीने का भी इंतज़ार करना पड़ जाता है। जबकि महिलाओं को लगभग हर रात काम मिल जाता है।

इस फील्ड में यौन संचारित रोग (एसटीडी) के डर और चिंता के बावजूद आकाश को गर्व है कि वो इस जॉब की वजह से अपने परिवार वालों की आर्थिक मदद कर पा रहे हैं। आकाश के पिता एक रिटायर सरकारी कर्मचारी हैं और मां हाउस वाइफ हैं। उसकी दो बहनें हैं और वो शुक्रगुज़ार हैं कि इस जॉब की वजह से वो अपनी दोनों बहनों की शादी के लिए पैसे जुटा सके हैं। उनकी समृद्ध आर्थिक स्थिति ना सिर्फ उनके बूढ़े हो रहे मां बाप के सपोर्ट के लिए मददगार साबित हुई है बल्कि वो अपने उन दोस्तों की कंपनी भी एन्जॉय कर रहे हैं, जिनका बड़े लोगों के साथ उठना-बैठना है।

फिलहाल, आकाश का इस फील्ड को छोड़ने का कोई इरादा नहीं है। उन्हें 9-5 की जॉब कभी प्रभावित नहीं करती है। उनका कहना है कि सेक्स वर्कर रहते हुए वो खुद के बॉस होते हैं। वो अपने अनुसार काम करते हैं, कोई प्रेशर या डेडलाइन नहीं है। हैंडसम बने रहने के लिए उन्हें पैसे मिलते हैं और इस ज़िन्दगी के साथ वो कम्फर्टेबल हैं।

मगर आकाश का यह भी मानना है कि अगर इस पेशे को कानूनी मान्यता मिल जाए तो परिस्थितियां और भी बेहतर हो सकती हैं। उनका मानना है कि ऐसा होने से हमारे पिछड़े समाज को एक करारा जवाब मिलेगा।

रिपोर्टर से बातचीत के दौरान आकाश एक ऐसे व्यक्ति के रूप में सामने आए जो सशक्त महिलाओं की सराहना करते हैं। उन्होंने बताया कि कैसे कॉरपोरेट घराने की एक क्लाइंट ने उन्हें बिजनेस के लिए कुछ शानदार टिप्स दी, जिसका काफी शानदार परिणाम देखने को मिला। आकाश अपनी उन क्लाइंट्स की तारीफ करते हुए दिखें जो सेक्शअली लिबरेटेड हैं। आकाश का कहना है कि मैं ये चाहता हूं कि आदमी महिलाओं को सेक्स ऑबजेक्ट के रूप में देखना बंद कर दे। आकाश खाप पंचायत से भी अहसमति रखते हैं और उसके रूढ़िवादी फरमानों से भी जो महिलाओं पर प्रतिबंध लगाने की कोशिश करते हैं।

अपनी किस्मत खुद बदलने वाले आकाश का कहना है कि एक पुरुष-प्रधान समाज में भी महिलाएं अपनी ज़रूरतों को समझ रहीं और उसे पूरा कर भी रहीं, यह एक बड़ा बदलाव है। आकाश इस तरह के बदलावों की पूरी सराहना करते हैं।

ओरिजनल लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.