कम्यूनिटी रेडियो अब मोबाइल ऐप से भी समुदाय को करेगा जागरूक

Posted by sonia Chopra
July 17, 2017

Self-Published

 

कम्यूनिटी  रेडियो अब मोबाइल ऐप के जरिए भी  समुदाय को करेगा जागरूक

फुल ऑन निक्की

सपनों पर आधारित एक नई रेडियो श्रृंखला भी शुरु

रेडियो एक ऐसा साधन है जो ध्वनि यानि आवाज़ के ज़रिये अपने सुनने वालों से जुड़ा है।  हम सभी ने बचपन से अब तक रेडियो के कार्यक्रम सिर्फ रेडियो पर सुने ही है। आज इंटरनेट रेडियो (जिसे वेब रेडियो, नेट रेडियो, स्ट्रीमिंग रेडियो और ई-रेडियो ) का नया दौर चल रहा है यानि ध्वनि तरंगों के माध्यम से रेडियो का कोई भी चैनल दुनिया में कही पर भी सुना जा सकता है।

सामुदायिक रेडियो अल्फाज़ –ए – मेवात ने भी डिजिटल इंडिया के इस दौर में एक कदम और बढाया है और जेडएमक्यू डेवलपमेंट (मोबाइल टेक्नोलॉजी) कंपनी के सहयोग से अल्फाज़ – ए –   मेवात का मोबाइल ऐप (मोबाइल ऐप) बनाया है ताकि अधिक से अधिक लोग इसका लाभ उठा सकें। फिक्की सभागार में रेडियो के मोबाइल ऐप को लांच करते हुए अल्फाज़ – ए –   मेवात की निर्देशक पूजा मुरादा ने बताया कि  “ऐप पर  श्रोता रेडियो पर प्रसारित कुछ कार्यक्रमों  का संक्षिप्त ​रूपांतर अपने मोबाइल पर देख और सुन सकते है। यह ऐप इन्टरनेट के ज़रिये गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध है और गूगल प्ले स्टोर से इसको डाउनलोड किया जा सकता है.पंचायत की ग्राम विकास में भूमिका, महिलाओं की पंचायतों में भूमिका व टी.बी. की बीमारी का पूरा इलाज करवाने के महत्व पर कार्यक्रम अल्फाज़ – ए –   मेवात के अलावा ग्रामीण समुदाय को  जागरूक बनाने के कई  सफल उदाहरण भी इस मोबाइल ऐप पर उपलब्ध है।”

कार्यक्रम में अल्फाज़ – ए – मेवात की निर्देशक पूजा मुरादा, जेडएमक्यू डेवलपमेंट के सह-संस्थापक हिल्मी कुरैशी, मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुभी कुरैशी भी शामिल हुए। यह जानकारी देते हुए रेडियो की संचार अधिकारी सोनिया चोपड़ा ने बताया कि डिजिटल टेक्नॉलाजी के दौर में गाँव हो या शहर,  घर हो या खेत-खलिहान या फिर यात्रा करते हुए मोबाइल का प्रयोग लोग फ़ोन करने के साथ –साथ रेडियो सुनने के लिए भी करते है चाहे  घर पर या फिर फिर यात्रा कर रहे हो। इस मोबाइल ऐप में बच्चों की शिक्षा, ग्रामीण महिलाओं की सशक्तिकरण जैसे गंभीर मुद्दों को भी कहानियों के माध्यम से पेश किया गया है ताकि स्कूली बच्चों से लेकर, किशोरियाँ एवं महिलाएं बेहिचक अपनी समस्याओं का निदान पा सकें। इसी बात को ध्यान में रखते हुए जेडएमक्यू डेवलपमेंट (मोबाइल टेक्नोलॉजी) कंपनी के सहयोग से  अल्फाज़ – ए –   मेवात का मोबाइल ऐप बनाया गया है ताकि ग्रामीणों को रोचक तरीके से जानकारी दी जा सके । आने वाले समय में ऐप अलग –अलग विषयों पर अधिक सूचनाप्रद कार्यक्रमों का विस्तार किया जायेगा ।

फुल ऑन निक्की – युवाओं के सपनों पर आधारित एक नई रेडियो श्रृंखला शुरु

आज नगीना के गाँव जाटका के इंटरनेट साक्षरता एवं जीवन कौशल शिक्षा केंद्र में सामुदायिक रेडियो अल्फाज़–ए–मेवात एफ.एम. 107.8, यूनिसेफ और बी बी सी मीडिया एक्शन द्वारा युवाओं के सपनों, उनकी आगे बढ़ाने की उम्मीदे पर आधारित नई रेडियो श्रृंखला फुल ऑन निक्की का शुभारम्भ किया गया। शुभारम्भ के अवसर इलाका की कई लड़कियों ने भाग लिया।  उनको फुल ऑन निक्की का पहला एपिसोड सुनाया गया। एपिसोड सुनने के बाद लडकियों ने अपने विचार साझा करते हुए बताया कि वो भी आगे बढ़ाना चाहती है ताकि उनके सपनों को हकीकत में उड़ाने मिल सके। इस रेडियो श्रृंखला में कुल 78 एपिसोड होंगे, जो हर सोमवार, मंगलवार और बुधवार को सुबह 10:05 से 10:30 तक और शाम 8:35 से 9:00 बजे तक रेडियो अल्फाज़ – ए –  मेवात एफ.एम. 107.8 पर प्रसारित होंगे। साथ ही तीनों दिनों प्रसारित रेडियो कार्यक्रमों का पुनःप्रसारण हर रविवार शाम 4:00 से 5:00 बजे किया जायेगा। रेडियो कार्यक्रम को सक्रिय बनाने के लिए कार्यक्रम के समापन के बाद 15 मिनट का लाइव किया जायेगा। जिसमे समुदाय के लोग विषय- विशेषज्ञों के साथ अल्फाज -ऐ -मेवात के स्टूडियो नंबर 9813164542 पर फ़ोन करके बात कर सकते है तथा उनके सवालों को कार्यक्रम संबोधित भी किया जायेगा।

 

सामुदायिक रेडियो अल्फाज़ – ए –   मेवात एफ एम 107.8 के बारे में:-

रेडियो अल्फाज़–ऐ–मेवात, एस एम सहगल फाउंडेशन (गैर सरकारी संगठन) द्वारा 2012 में नूह के गाँव घागस में स्थापित किया गया है। रेडियो द्वारा 20 किलोमीटर की सीमा में आने वाले 225 गांवों के ग्रामीणों को रोज़ विभिन्न सूचनापरक और मनोरंजन  कार्यक्रमों का प्रसारण करके जानकारी प्रदान की जाती है। रेडियो अल्फाज़–ऐ–मेवात समुदाय के हर वर्ग बच्चों, महिलाओं, किसानों, किशोरों तथा वृद्ध लोगों के साथ जुड़ा है। रेडियो रोजाना 13 घंटे का प्रसारण करता है।

 

सोनिया चोपड़ा

 

 

 

 

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.