धोनी होकर , धोनी बने रहना किसको कहते हैं…

Posted by sanjay mehta
July 7, 2017

Self-Published

#HappyBirthDayMahi

फ़ोटो देखिए . फ़ोटो एक कार्यक्रम की है. धोनी यहाँ आये. लेकिन उन्हें नहीं पता था कि उनके नाम की एक चेम्बर भी बनी हुई है.

वे चेम्बर तक नहीं पहुंच पाए. वहाँ सन्नाटा कायम रहा. मैंने तस्वीर क्लिक कर ली. आज धोनी का जन्मदिन है. यह तस्वीर आज बहुत कुछ कह रही है.

एक सोफ़ा , एक चेयर , एक छोटा सा टी टेबल और एक डेस्क दिखाई पड़ रहा है. बिल्कुल साफ – साफ.

धोनी क्या हैं , एक धोनी बनकर धोनी बने रहना किसको कहते हैं आपको पता चल जाएगा. इस तस्वीर से.

जो बड़ा सोफ़ा है वह टेस्ट क्रिकेट है. धोनी यहाँ बैठकर , अपना योगदान देकर खुद चले गए.

बड़ा सा ओहदा आसानी से दूसरे में शिफ्ट कर दिए. त्याग कर महानता सिद्ध की. उस सोफे पर आज भी सन्नाटा है.

जो कुर्सी है वह वनडे क्रिकेट है. ठीक बगल में जो टी – टेबल है वह टी – 20 है.

एक दिन अचानक धोनी बड़ी सलाहियत से एक पिता की तरह अपनी कप्तानी को छोड़ते हैं. और कहते हैं अब मैं सिर्फ डेस्क पर उपलब्ध रहूँगा. चयन के लिए .

कुर्सी छोड़ वे कोने में रहते हैं. इसलिए वह डेस्क कोने में है. धीरे – धीरे एक बादशाह नेतृत्वकर्ता तैयार कर देता है . जिम्मेदारी सौंप देता है . उनकी उँगलियों को पकड़ने के लिए उनके बीच बना रहता है.

फ़ोटो में जो रौशनी दिखाई पड़ रही है . वह धोनी नाम का प्रकाश है. जो मुल्क को , भारतीय क्रिकेट को , ड्रेसिंग रूम को , झारखंड को आज भी प्रकाशमय कर रहा है.

जब धोनी को यह आभास हो जाएगा की अब उंगलियों को पकड़ने की जरूरत नहीं है. सब चलने लगे हैं. एक दिन वन डे , टी – 20 से सन्यास ले लेंगे और कहेंगे अब मैं जा रहा हूँ.

फिर चारो तरफ सन्नाटा होगा. वही सन्नाटा जो सन्नाटा फ़ोटो में है . यह सन्नाटा धोनी के ड्रेसिंग रूम में नहीं होने के सन्नाटे का प्रतीक है.

धोनी होकर धोनी होना इसी को कहते हैं. जो जिम्मेदारियों को कंधों पर सौंपकर , चलना सीखाता है. नेतृत्वकर्ता तैयार करता है.

Happy Birth Day MSD

© Sanjay

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.