मधुर भंडारकर की फ़िल्म Indu Sarkar: अब फ़िल्मो के ज़रिये कांग्रेस पार्टी का दुष्प्रचार

Posted by Shikhrani Raghvendra
July 1, 2017

Self-Published

आज़ाद भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है कि सत्ता का इतना दुरूपयोग किया जा रहा है. भाजपा ने देश में पहले भी शासन तो किया था, लेकिन इस तरह की तानाशाही का उदाहरण पहली बार देखने को मिल रहा है. भाजपा जब से सत्ता में आयी है, तभी से पार्टी का एक मात्र उद्देश्य है कांग्रेस पार्टी की छवि को नकारात्मक रूप दे कर देश की जनता को गुमराह करना और इस काम के लिए प्रशासन एवं संसाधनों का भी दुरूपयोग किया जा रहा है.

Trailer Link https://www.youtube.com/watch?v=qh-_gR6a5JE

पहले मीडिया एवं सोशल मीडिया के ज़रिय भाजपा सरकार ने कांग्रेस पार्टी का दुष्प्रचार किया और अब भाजपा ने कांग्रेस की छवि पर प्रहार करने के लिए फ़िल्मो का रुख किया है. इस वर्ष अप्रैल में आयी विद्या बालन की फ़िल्म बेगम जान में आज़ादी के समय कांग्रेस पार्टी की नकारात्मक भूमिका को दर्शाया था.

Iron Lady Indira Gandhi को नकारात्मक दर्शाती Indu Sarkar

हालही में फ़िल्म निर्माता/निर्देशक मधुर भंडारकर ने अपनी आगामी फ़िल्म Indu Sarkar का Trailer जारी किया है जो कि भारत में 1975-1977 के emergency काल पर आधारित है. Trailer देखने से ही ये स्पष्ट हो जाता है कि फ़िल्म में कांग्रेस पार्टी, पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी एवं संजय गाँधी के किरदारों की नकारात्मक भूमिका है. इतना ही नहीं फ़िल्म में anti-congress dialogues की भरमार है. इंदिरा गाँधी के ख़िलाफ़ फ़िल्म में अनुपम खेर का एक dialogue है जिसमे वे नायिका को कहते है कि भारत की एक बेटी ने देश को बंदी बनाया हुआ है, तुम वो बेटी बनो जो देश को मुक्ति का मार्ग दिखा सके”.

इसके अलावा एक और आम नागरिक का dialogue है जिसमे एक विपक्षी संगठन का नेता कहंता है कि ये “बेहरी सरकार सुनने वाली नहीं है, हमें अब कुछ बड़ा करना होगा.” Trailer के अंत में नायिका का एक ऐसा dialogue है जो सीधे-सीधे इंदिरा-गाँधी एवं संजय गाँधी की राजनीति पर करारा प्रहार करती है. फ़िल्मी की नायिका एक पुलिस अफ़सर को कहती है कि “तुम ज़िन्दगी भर माँ-बेटे की गुलामी करते रहोगे”. 

अभिनेता अनुपम खेर का कांग्रेस के प्रति अलगाव

गौरतलब है कि अनुपम खेर का इस फ़िल्म में होना मात्र ही इस बात का प्रमाण है कि ये फ़िल्म पूरी तरह से anti-congress है, क्योंकि जिस तरह के बयान वे कांग्रेस पार्टी के ख़िलाफ़ देते आये है, उससे ये साफ़ हो जाता है कि अनुपम खेर को कांग्रेस पार्टी से कोई व्यक्तिगत परेशानी है और इसीलिए जब भी मौका मिलता है वे कांग्रेस पार्टी को निशाना बनाने से नहीं चूकते.

अनुपम खेर ने इसी साल The Accidental Prime-Minister फ़िल्म की घोषणा की थी जो कि इसी नाम की संजय बरु की किताब पर आधारित है, जिसमे वे खुद मनमोहन सिंह का किरदार निभाने वाले है. लेकिन  CBFC ने अनुपम खेर को चेतावनी दे दी है कि ये फ़िल्म बिना सोनिया गाँधी एवं डॉ. मनमोहन सिंह के NOC के नहीं बन सकती.

क्या कांग्रेस पार्टी करेगी फ़िल्म का विरोध? 

जिस तरह इस इस फ़िल्म के trailer में कांग्रेस पार्टी और उनके दिग्गज नेता इंदिरा गाँधी एवं संजय गाँधी को नकारात्मक भूमिका में दर्शाया गया है उससे एक बात तो तय है कि यदि ये फ़िल्म रिलीज़ होती है तो कांग्रेस पार्टी को भारी नुक्सान उठाना पड़ सकता है. हालांकि trailer आज ही रिलीज़ हुआ है और किसी भी राजनैतिक दल की कोई भी प्रतिक्रिया नहीं आयी है.

लेकिन इस साल संजय लीला भंसाली ने राजपूत महारानी पद्मावती की छवि को अपनी फ़िल्म के ज़रिये बिगाड़ने की कोशिश की थी, जिसका राजपूत समाज सहित कई अन्य हिन्दू संगठनो ने विरोध किया था, इसी तर्ज़ पर शायद कांग्रेस पार्टी भी फ़िल्म का विरोध कर सकती है. क्योंकि इंदिरा गाँधी एक ऐसी सम्मानित नेता रही है जिनको पुरे विश्व में Iron Lady के नाम से जाना जाता है और उनका सम्मान किया जाता है. ऐसे में यदि ये फ़िल्म उनकी छवि को बिगाड़ने का प्रयास करेगी तो निसंदेह कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता चुप नहीं बैठेंगे.

क्या बिना कांग्रेस पार्टी के NOC के रिलीज़ होनी चाहिए Indu Sarkar? 

जिस तरह से Central Board of Film Certification (CBFC) ने अनुपम खेर को बिना NOC के उनकी फ़िल्म The Accidental Prime Minister बनाने से रोका है, ठीक उसी तरह इस फ़िल्म की रिलीज़ से पहले भी कांग्रेस पार्टी एवं उनकी राष्ट्रिय अध्यक्ष सोनिया गाँधी और उपाध्यक्ष राहुल गाँधी से NOC जरूर लेना चाहिए, क्योकि फ़िल्म ना सिर्फ गाँधी परिवार बल्कि विश्व के सबसे पुराने राजनैतिक दल पर आधारित है और यदि इस फ़िल्म ने इतिहास के साथ कोई छेड़-छड़ की तो इसका नकारात्मक असर कांग्रेस पार्टी के साथ-साथ पुरे विश्व में देश की छवि पर भी पड़ेगा.

फिल्म अगले महीने 28 July को रिलीज़ की जाएगी और इसमें नील नितिन मुकेश संजय गाँधी का किरदार निभाएंगे तो अभिनेत्री सुप्रिया विनोद इंदिरा गाँधी के रूप में नज़र आएगी. फिल्म की मुख्य नायिका है पिंक फेम कीर्ति कुल्हारी जो इस फ़िल्म में एक ऐसे लड़की का किरदार निभाएगी जो इंदिरा गाँधी एवं कांग्रेस पार्टी के ख़िलाफ़ आवाज़ उठती है. इनके अलावा अनुपम खेर के साथ टोटा रॉय चौधरी भी अहम् किरदारों में नज़र आएंगे.

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.