कहां जा रहे हैं हम..??

Posted by Neeti Kushwaha
August 20, 2017

Self-Published

दिल्ली में घटित निर्भया काण्ड से आज लगभग सभी परिचित होंगे.. हो सकता है कि आप उस दौरान निर्भया कांड के विरोध में और दिल्ली की बेटी निर्भया के समर्थन में कही ना कही किसी कैंडिल मार्च में सम्मिलित भी हुए हों.. ना केवल आप अपितु आपके मित्र, सगे-संबंधी, पड़ोसी और आपके जानने वालों के साथ ही अनेको अनजाने चेहरे भी. विडम्बना तो यही है कोई घटना घटित होती है उसके बाद कैंडिल मार्च निकलेंगे, नुक्कड़ नाटक आयोजित किये जायेंगे.. दो – तीन दिन समाचार की सुर्खियां बनेंगे.. कार्यशालाओं संगोष्ठियों में चर्चा का,  पेपर प्रदर्शन का विषय बनेंगे और उसके बाद क्या..??? वापस उसी ढर्रे पर लौट आएंगे. ये जो अलख कुछ देर को जलती है धीरे-धीरे मोमबत्ती की तरह ही बुझ जाती है.. शोषण,  यौन हिंसा, बलात्कार फिर सुर्खियां बनते हैं और अपराधी विद्यालयी प्रमाणपत्र दिखाकर सजा से बच जाते हैं.. हालांकि इस मामले में देर से ही सही पर कानूनी कदम तो उठाया गया है और अब जघन्य अपराध के नाबालिग दोषियों को अपराध की जघन्यता के आधार पर सज़ा का प्रावधान किया किया गया है.. किंतु विचारणीय तथ्य यह है कि आज भी ये घटनाएं घटित हो रही हैं.. माँमले दर्ज करने और कराने दोनों में ही आनाकानी होती है.. और रूसुखदार परिवारों के बच्चे माँफ़ कीजिएगा तथाकथित अपराधी असानी से साक्ष्यों के साथ हेरफेर कर बच निकलते हैं. अभी आज दिनांक 20 अगस्त 2017 को अमर-उजाला समाचार पत्र के पृष्ठ 02 में प्रकाशित बैरिया (बलिया) की ही खबर को ही ले लीजिए जहां  ‘पुलिस थाने की छत पर  गांव वालों ने एक सिपाही को किशोरी के साथ यौन शोषण (रेप) करते हुए रंगे हाथों पकड़ा.’ अब जिनसे हम अपनी रक्षा की उम्मीद करते हैं न्याय की आशा करते हैं वो ही ऐसा करेंगे तो समाज और उसके मानुष का क्या होगा?? अब आप ही सोचिए कहां जा रहे हैं हैं हम..??

हो सकता है आपके विचार शायद मेरे विचारों से भिन्न हो तथापि आपसे अनुरोध यही है कि आगे आने वाली पीढ़ियों को हम समझदार बनाए.. भेद का कोई बीज़ अंकुरित होने ही ना दें.. पहनावे को ना बदलकर  सोच में परिपक्वता और बदलाव लाएं.. क्योंकि जब भी स्त्री के साथ कोई बुरी घटना घटित होती है तो उसका जिम्मेदार स्वयं उसे अथवा उसके कपड़ो को ठहरा दिया जाता है. यदि कपड़े बलात्कार जैसे जघन्य अपराध के लिए उत्तरदायी होते हैं तो दूधमूही बच्ची के साथ-साथ 70-75 वर्ष की महिला ने ऐसा कौन सा पहनावा पहना होता है जो उनके साथ भी यह वीभत्स घटना घटित होती है???

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.