भारत : मेरा नजरिया

Posted by Sambhav Garg
August 15, 2017

Self-Published

आज हमारे देश को आजाद हुए 70 साल हो गये| हजारो लोगो के सालो के संघर्ष के बाद हमे ये आजादी मिली | जिसमे हम  सभी के पूर्वजो का योगदान था| सभी ये चाहते थे की भारत को आजादी मिले| आजादी मतलब राजनितिक आजदी नही| आजादी मतलब फिर से हमारी सोच से लेकर देश तक किसी बाहरी का अधिकार नही है| लेकिन क्या हम वैसा देश बनाने में कामयाब हुए है जेसा हमारी  स्वतंत्रता  को वास्तविक बनाने वाले वीर चाहते थे| आज हम उन लोगो को सम्मान दे रहे है जिनका इस देश से कोई भावनात्मक लगाव नही है| हम नेताओ की चाटुकारिता में लगे हुए है | स्पष्ट कहे तो हम उनकी बंधुआ मजदूरी कर रहे है| हम आज भी अपने देश की बहनों के खिलाफ हो रहे अत्याचारो की खबरे सुनते है| आज भी हजारो बच्चे भूख से मरते है | बहुत कुछ अच्छा भी हुआ है |

लेकिन कुछ घटनाए ऐसी होती है | जिनको देखकर दुःख भी होता है , गुस्सा भी आता है | कुछ लोगो को वन्दे मातरम गाने में भी दिक्कत है | जब हमारे सैनिक अपने जोश का प्रयोग देश की रक्षा के लिए करते है वही ये तुच्छ प्राणी अपने जोश का प्रयोग वन्दे मातरम का विरोध करने के लिए करते है| उनके पास अपना एक तर्क है, अब सबको पता है वो तर्क है या कुतर्क| हमने तो स्कूल में वन्दे मातरम भी गाया , सरस्वती वंदना भी गायी और भारत माता की जय भी | हर बार गर्व हुआ की मुझे इस पवित्र राम और कृष्ण की धरती पर जन्म लेने का सौभाग्य मिला|

हम ये भूल जाते है की हमे 200 साल की नही बल्कि 800 साल की गुलामी से आजादी मिली| अंग्रेजो से पहले मुग़ल भी कोई हमारे पूर्वज नही थे वे विदेशी आक्रान्ता थे जिनका मकसद सोने की चिड़िया को लूटना था, हमारी सांकृतिक विरासत को ख़त्म करना उनका मकसद था| उन्होंने ने ही हमारे पूर्वज एवं आराध्य श्री राम की पवित्र जन्मभूमि में मंदिर को नष्ट किया |

हो सकता है एक दो लोग अच्छे शासक रहे हो पर इसका मतलब ये तो नही की हम उनको महिमामंडित करे| अंग्रेजो में भी कुछ अच्छे लोग होंगे लेकिन हम कभी भी अंग्रेजो को महिमामंडित नही करते| अंग्रेजो और मुगलों का एक ही तो मकसद था इस देश को लूटना और उन्होंने जी भर के लूटा|

हमारे आदर्श तो राम और कृष्ण होने चाहिए |

अब आगे हमारे लिए करने के लिए यही है की हम जहा तक हो सके , जितनी कर सके इस देश की सेवा करे | हमारे 5000 साल पुराने इतिहास पर हमें गर्व हो | और भारत को फिर से सोने की चिड़िया बनाए|

जय हिन्द

वन्दे मातरम                                                                                                                                                     भारत माता की जय

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.