रमन सरकार के भ्रष्टाचार के खिलाफ विपक्ष लगा रही है लोगों के बीच विधानसभा सत्र

Posted by Rajesh Kumar in Hindi, News, Politics
August 5, 2017

भारतीय जनता पार्टी के प्रतिनिधियों का पुराना तरीका रहा है, जहां भी वो आरोपों से घिरते हैं, सवालों के जाल में फंसते हैं, वहां खुद को बचाने के लिए लोकतंत्र को अपने हिसाब से मरोड़ने में वो पीछे नहीं हटते।

हालिया वाकया छत्तीसगढ़ का है, जहां विधानसभा में मॉनसून सत्र के लिए जनप्रतिनिधियों द्वारा जनहित के मुद्दों से जुड़े लगभग 1200 सवाल पूछे जाने थे। इसमें किसान आत्महत्या, मुख्यमंत्री-मंत्रियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों पर अधिकांश सवाल तय थे। लेकिन सवालों के जवाब देने से बचने के लिए भाजपा सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ विधानसभा 2017 के मॉनसून सत्र को महज़ ढाई दिनों में अलोकतांत्रिक तरीकों से अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया।

केन्द्र सरकार की ओर से जारी अपराध अनुसंधान ब्यूरो (एनसीआरबी) 2015 की रिपोर्ट बताती है कि भ्रष्टाचार से संबंधित मामलों की जांच में छत्तीसगढ़ सबसे फिसड्डी राज्यों में से एक है। एनसीआरबी के अनुसार, छत्तीसगढ़ में साल 2015 में 81 मामलों की जांच या तो नहीं की गई या उनकी जांच बंद कर दी गई। 29 अधिकारियों पर अनियमितता का आरोप है। 45 आईएएस अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले हैं, लेकिन सरकार ने जांच की अनुमति नहीं दी।

छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार निम्निलिखित भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरी है, जिसे विपक्ष विधानसभा में उठाने वाला था –

PDS घोटाला

मुख्यमंत्री रमन सिंह पर नागरिक आपूर्ती निगम (PDS) से जुड़े मामले में 36 हज़ार करोड़ रुपये के घोटाले का सीधा आरोप है। इस घोटाले की डायरी में सी.एम. मैडम अर्थात मुख्यमंत्री की पत्नी के नाम का भी उल्लेख है। धन डॉ.साब तक पहुंचने का डायरी में ज़िक्र है। इसी डायरी को आधार बनाकर लगभग 8 अभियुक्त जेल में सज़ा काट रहे हैं। वहीं रमन सिंह और सी.एम. मैडम के ऊपर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

अगुस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाला

अगुस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर खरीद मामले में मुख्यमंत्री रमन सिंह, उनके पुत्र सांसद अभिषेक सिंह पर योगेन्द्र यादव और प्रशांत भूषण द्वारा भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए गए हैं। मनमाने ढंग से AW109E हेलिकॉप्टर खरीद की पूरी प्रक्रिया में कई अनियमितताएं बरती गई हैं। इस दौरान डीलर को 1.57 मिलियन डॉलर यानी लगभग 10 करोड़ रुपये कमीशन दिया गया। विदेश से रुपये की लेन-देन के लिए अभिषाक सिंह (अभिषेक सिंह) के नाम से रमन मेडिकल स्टोर, कवर्धा (मुख्यमंत्री रमन सिंह पता) के पते पर विदेशी खाता भी खोला गया।

कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल पर पत्नी-बेटे के नाम वनभूमि खरीदने का आरोप

छत्तीसगढ़ भाजपा के कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल के परिजनों पर महासमुंद जिले में वन भूमि खरीदने, सरकारी ज़मीन एवं स्थानीय किसानों की ज़मीनों पर गैरकानूनी ढंग से कब्ज़ा करने का गंभीर आरोप है। राज्य की भाजपा सरकार की ही एक रिपोर्ट के मुताबिक़ महासमुंद ज़िले के सिरपुर इलाके में साढ़े चार हेक्टेयर वन भूमि पर मंत्री के परिजनों द्वारा बेजा कब्ज़ा पाया गया है। इसके बावजूद रमन सिंह और बृजमोहन अग्रवाल एक-दूसरे पर ही आरोप-प्रत्यारोप कर रहे हैं।

Jan Vidhan Sabha In Chhattishgarh
जन विधानसभा का एक दृश्य

इन घोटालों के अलावा भी रमन सरकार के अन्य मंत्रियों पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं जिसे विपक्ष विधानसभा में उठाने वाली थी। जैसे परिवहन मंत्री राजेश मूणत पर करोड़ों की वसूली का आरोप, गृह मंत्री रामसेवक पैकरा पर स्वेच्छानुदान घोटाले का आरोप, स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर पर आय से अधिक संपत्ति का आरोप और प्रियदर्शनी बैंक घोटाला।

अब जब मॉनसून सत्र को सरकार ने ढाई दिन में ही स्थगित कर दिया है, विपक्ष जन-विधानसभा का आयोजन कर रहा है, जिसमें कि जनता के बीच जन-विधानसभा के एक दिवसीय सत्र का आयोजन किया जा रहा है।

जन प्रतिनिधि अपने क्षेत्र में जाकर उन सवालों को उठा रहे हैं, जिसे सरकार ने विधानसभा में उठाने से रोक दिया था। लोकतंत्र की रक्षा हेतु विरोध का यह असरदार तरीका छत्तीसगढ़ के लोगों के बीच आशा का पुल बांधने का काम कर रहा है।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।