फोटो स्टोरी: जब कभी ना सोने वाले शहर को बारिश ने ठहरा दिया

Posted by Momin Mobeen Khan in Hindi, PhotoNama
August 31, 2017

मुसलसल बारिश खिड़कियों पर अच्छी लगती है छाते पर नहीं।

यूं तो मुंबई और बारिश के इश्क ने कई कवियों को जन्म दिया है लेकिन प्यार में जब खटास आती है तो सबकुछ बह जाना लाज़मी है। कुछ देर की ज़ोरदार बारिश में हज़ारों मुंबईकर जहां थे वहीं फंस गएं और प्रशासन की सच्चाई सड़कों पर तैरने लगी। जो शहर कभी सोता नहीं वो बेचैन था।

शहर की लाइफलाइन मुंबई लोकल हर दिन की तरह खुद में कई कहानियां समेटे थी, और उन कहानियों में वो जज़्बात थें जिन्हें गीली कर जाने वाली बरसात होनी अभी बाकी है।

Mumbai Flood, Santacruz
रंगों से सराबोर मुंबई की बारिश (सांताक्रूज़ वेस्ट)
People During Mumbai Floods Santacruz west
कुछ पल के लिए रुका मुंबई (सांताक्रूज़ वेस्ट)
Man Pulling Umbrella During Mumbai Floods
बारिश से खुद को बचाने की कोशिश (सांताक्रूज़ वेस्ट)
Mumbai Local Stopped During Mumbai Floods
जब लाइफलाइन, मुंबई लोकल ठहर गई (सांताक्रूज़ वेस्ट)
Mumbai Locals During Mumbai Floods
घर पहुंचने के लिए लोकल छोड़ कोई और साधन तलाशने जाते लोग (सांताक्रूज़ वेस्ट)
People Waiting To Go Home During Mumbai Floods
इंतज़ार (अंधेरी वेस्ट)
Andheri West Local During Mumbai Floods
ख़त्म ना होने वाला इंतज़ार (अंधेरी वेस्ट)
People Tired In Mumbai Floods
समय का सदुपयोग (अंधेरी वेस्ट)
Sleeping In Mumbai Local
नींद त्रासदी नहीं देखती (अंधेरी वेस्ट)
People Stranded In Mumbai Floods
शरणार्थी (अंधेरी वेस्ट)
Delay In Mumbai Local Due To Torrential Rain
घर पहुंचने की आस और इंतज़ार ( अंधेरी वेस्ट)
People Finally Going Home After Rain
इंतज़ार का अंत (गोरेगांव वेस्ट)

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.

हर हफ्ते Youth Ki Awaaz हिंदी की बेहतरीन स्टोरीज़ अपने मेल में पाने के लिए यहां सब्सक्राइब करें।