Youth Ki Awaaz is undergoing scheduled maintenance. Some features may not work as desired.

जो जुर्म करते हैं इतने बुरे नहीं होते सज़ा ना देकर अदालत बिगाड़ देती है

Posted by Amit Yadav
October 17, 2017

सोशल मीडिया पर चल रहे ट्रेंड #MeToo को देखकर लोगों की नजरें शायद शर्म से झुक गई होंगी या फिर ये कुछ लोगों के लिए चेतावनी है कि अगला नंबर आपका है । हमारे समाज में महिलाओं के साथ दोयम दर्जे का व्यवहार किया जाता है । इसके लिए केवल पुरूष ही जिम्मेदार नहीं हैं बल्कि वो महिलाएं भी जिम्मेदार है जो अपने साथ हुए अत्याचार के विरुद्ध आवाज नही उठाती । मेरे पिता कहा करते हैं कि सत्ता का दुरुपयोग वहीं करता है जो सत्ता में होता है । हार्वी वाइंस्टीन पर लगे आरोप इस बात को सिद्ध करते हैं । हार्वी के ऊपर एक के बाद एक अभिनेत्रियों के आरोप लगते जा रहें हैं । ये अभिनेत्रियाँ कहती हैं कि जब इनके साथ ऐसा हुआ तो ये अपने करियर के शुरुआती दौर में थीं ।आखिर हमारा समाज किस दिशा में जा रहा है । हम इतने महत्वकांक्षी हो गए हैं कि हमारे साथ चाहे जितना भी गलत हो, हम उसे यह कहकर छुपा लेते हैं कि अभी समय सही नहीं है । अगर किसी अभिनेत्री ने ये बात पहले कही होती तो शायद इतनी अभिनेत्रियों को इस परिस्थिति से न गुजरना पड़ता । और शायद हार्वी को पहले सज़ा मिल गई होती या उसके बाद हार्वी किसी के साथ ऐसे पेश आने की हिमाकत न करते । इस बात को राहत इंदौरी साहब की दो पंक्तियों में समझा जा सकता है –

“जो ज़ुर्म करते हैं इतने बुरे नहीं होते, सज़ा न देकर अदालत बिगाड़ देती है ।”