बूचड़खाना चलाने वाला ताज महल के इतिहास की बात कैसे कर सकता है

Posted by Aurangzeb Khan
October 20, 2017

Self-Published

बूचड़खाने को चलाने वाला आज इतिहास की बात कर रहा है जिसने 12 वी पास की इतना इतिहास संगीत सोम के मुह से अच्छा नही लगता है जिसपर हजारो केस है जो दंगा करवाना धार्मिक भावनाओ को आहत करना.

देश भर में जितनी भी इतिहासिक इमारत है मुगलो और अंग्रेजो की गुलामी की निशानी थी आज वही गुलामी की निशानी भारत का गौरव है 

मंदिर की पूजा करने वाला आज देश भक्ति और राम राज्य की बात करता है ताजमहल हमारी पहचान नही

उत्तर प्रदेश सरकार की ताजमहल पर बनी वेबसाइट पर दी गई एक कहानी के मुताबिक शाहजहां काले संगमरमर से एक और ताजमहल बनाने की इच्छा रखते थे.

यह काला ताज मौजूदा मकबरे के सामने यमुना नदी की दूसरी तरफ माहताब बाग में बनाने की योजना थी.

शाहजहां इसमें अपना मकबरा बनाने चाहते थे. लेकिन, शाहजहां का ये सपना पूरा नहीं हो सका क्योंकि अपने बेटे औरंगज़ेब के साथ उनका टकराव शुरू हो गया था.

औरंगज़ेब ने शाहजहां को घर में नज़रबंद कर लिया था.

 

अकेले ताजनगरी में ही चार लाख लोगों की रोजी-रोटी इससे जुड़ी हुई है। ताज के विवाद से दिल्ली-आगरा-जयपुर के गोल्डन ट्रायंगल पर असर पड़ने की आशंका पर्यटन उद्यमियों ने जताई है। पूरा उत्तर प्रदेश एक तरफ और ताज एक तरफ। कुछ ऐसा ही है ताजमहल का जादू। ताज से होने वाली कमाई हो या दीदार करने वाले विदेशी सैलानियों की तादात। सभी में ताजमहल नंबर 1 है।

ताजमहल को लेकर चल रही बयानबाजी को लेकर बैकफुट पर आए यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अब पार्टी विधायक संगीत सोम से उनके विवादित बयान पर सफाई मांगी है। बीजेपी सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है कि विधायक से ताजमहल पर दिए अपने बयान की वजह बताने को कहा गया है। सोम के इस बयान के चलते काफी विवाद हुआ और यह पार्टी के लिए शर्मिंदगी की वजह भी बन गया।

प्रदेश बीजेपी प्रवक्ता चंद्र मोहन ने कहा, ‘पार्टी संगीत सोम की राय से सहमत नहीं है। वह पूरी तरह उनकी निजी राय है। हमारी पार्टी आगरा में पर्यटन के विकास के लिए काफी कुछ कर रही है। सरकार इसके लिए कई योजनाएं भी तैयार कर रही है।’

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=887021338123000&id=766858350139300

 

इसके पहले यह जानकारी भी सामने आई कि सीएम योगी आदित्यनाथ 26 अक्टूबर को आगरा जाएंगे। इस दौरान वह ताजमहल और आगरा के किले का दौरा कर सकते हैं। मुख्यमंत्री यहां पर्यटन विभाग और आगरा जिला प्रशासन की योजनाओं की समीक्षा करेंगे। योगी का यह आगरा दौरा सियासी डैमेज कंट्रोल माना जा रहा है। सीएम योगी आदित्यनाथ इस दौरे के जरिए ताज महल विवाद को ठंडा करने की पहल कर सकते हैं।

 

बता दें कि सरधना से बीजेपी के विधायक संगीत सोम ने कहा था, ‘कई लोगों को दुख हुआ कि आगरा का ताजमहल ऐतिहासिक धरोहरों की लिस्ट से हटा दिया गया। किस इतिहास की बात कर रहे हैं हम? जिस इंसान ने ताजमहल बनवाया था, उसने अपने पिता को कैद कर लिया था। वह हिंदुओं को खत्म करना चाहता था, अगर यही इतिहास है, तो यह बहुत दुःखद है, और हम इतिहास बदल डालेंगे। मैं आपको इसकी गारंटी देता हूं।’ उनके इसी बयान को लेकर सियासी घमासान छिड़ गया जिसके बाद पार्टी को भी उनके बयान से किनारा करना पड़ा।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.