रूढ़िवादी परम्पराओ ने की हत्या

Posted by Pravin Patil
October 11, 2017

Self-Published

               

धर्म के रूढ़िवादी परम्पराओ पर लिखने वाले या समाजहित में अपनी राय देने वाले साहित्यकार एम एम कुलबर्गी , लेफ्ट विचारक गोविंद पानसरे और उनकी पत्नी , इसके बाद अंधश्रद्धा को रोखने वाले नरेंद्र धाबोलकर की हत्या करनेवाले या करवाने वाले यही लोग असल मे देशविरोधी है , जिन्होंने हाल ही में एक और पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या कर दी । इसबार हत्या एक महिला की हुई है , दरसल अब महिलाए भी अपने कलम से इन देशद्रोहियो का ईगो हर्ट कर रही है । और हत्यारों के लिए तो क्या पुरुष , क्या महिला और क्या बच्चे …वो किसी को भी जान से मार सकते है । 

               महिला पत्रकार की सुरक्षा की बात करना तो ठीक है लेकिन सवाल तो पूरे पत्रकार बिरादरी का ही है । हर कोई डर रहा है और अब अगला नंबर किसका ? ये सवाल उठ रहा है । बैंगलोर में हुई गौरी लंकेश की हत्या के आरोपियों के मिलने की अपेक्षा करना तो व्यर्थ ही होगा , क्यू की इसके पहले की हत्याओ के आरोपी अबतक मिले ही नही है , जहा दाभोलकर के आरोपी मिले है वहा सिर्फ संदेह किया जा रहा है , और वो आरोपी संनातान संस्था से जुड़े है । 

               गौरी के हत्या के बाद आगे क्या होगा ? सिर्फ बहस ! राजनीती ! वहा सरकार कांग्रेस की है , जिस्से अबतक केंद्र ने भी हत्या के तहकीकात का जवाब नही मांगा । ये सरकारे है इनसे क्या उम्मीद करना । जो विकास की राजनीती बादमे पहले सिर्फ वोटर्स का गणित करती है । इन्ह हत्याओ के पीछे कौनसी ताकते है समझने वाले तो समजते ही है । लेकिन ये हत्याये बिना सत्ता के सपोर्ट से होना संभव नही । दूसरी तरफ सत्ता पक्ष को बदनाम करने के लिए भी विपक्ष इतनी घिनोनी हरकते कर सकता है , इसकी भी आशंका है । लेकिन सत्ता पक्ष यांनी केंद्र की बीजेपी और उस राज्य की कांग्रेस दोनो के पास ही अपने पावर और जांच एजेंसियां है , लेकिन इसके बावजूद आरोपी तो खुलेआम घूम ही रहे है । तो फिर क्या देश मे ऐसे हत्याओ के बाद हालात जस के तस ही रहेंगे । 

                क्या हम आम नागरिको को अभी सवाल नही करना चाहिए ? और हत्या करनेवालो और करानेवालों कबतक और किसकिस को मारोगे । परिवर्तन संसार का नियम है , अगर आप अपनी रूढ़िवादी परमपरा नही छोड़ना चाहते तो ये आपकी समस्या है । सरकारों की मेहरबानी से शिक्षा का अभाव है लेकिन आज नही तो कल लोगो में परिवर्तन आएगा जरूर ।



                                                                                                                          Pravin Patil

8149805806

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.