असली लोकतंत्र, असली विकास

Posted by Sanjay Rawla
November 19, 2017

Self-Published

चुनाव आयोग की बेइमानियों की पोल खुल चूकी है।
📢इसको घर घर, जन जन तक पहुंचाइये🙏🏻
1 – विधिवत परिभाषित “राजनीतिक दल” को “मान्यताप्राप्त दल” कहना शुद्ध बेईमानी है❌

2 – कैंडिडेट के लिये निर्धारित चुनावचिन्ह को मान्यताप्राप्त दल के नाम पहले ही रिजर्ब करते हुये उसे राजनितिक ब्यापार के लिये इस्तेमाल करने की इज़ाज़त देना शुद्ध बेईमानी है ❌
🔄चुनाव आयोग को हमने उसके दफ्तर में ही घेर लिया है, पर मैं अकेला हूँ, जब की EC के साथ 56 तथाकथित मान्यताप्राप्त पार्टियां और केंद्र सरकार हैं जो EC की बेइमानियों का नाज़ायज़ निर्वाचकिय लाभ ले रही हैं 👺
चुनाव आयोग को हमें सुधारना होगा 🤛🏻
चुनाव आयोग जब सुधरेगा –
तब चुनाव free & fair होने लगेगा ✅
जब चुनाव free & fair होगा,
तब तथाकथित मान्यताप्राप्त दल चुनाव प्रक्रिया से सर्वथा बाहर हो जायेगी और –
तब शासन का सिस्टम ही बदल जायेगा🇮🇳
तब निर्दल संसद, निर्दल सांसद और निर्दल सरकार होगी
🇮🇳
और तब हम सब नागरिक की इज्जत होगी,
सरकार तब कानून से डरेगी …..

Let us rise & join hands to ensure strict compliance of our Constitutional Orders.
🇮🇳
📝 Sheshmani Nath Tripathi

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.