आज का दिन.

Posted by Piyush Thada
November 12, 2017

Self-Published

सबसे पहले युथ की आवाज़ का शुर्किया की उन्होने मुझे अपनी बात दुनिया के सामने रखने के लिये एक जरिया मुहैया कराया है.. देखा जाये तो हमारे देश में बात और सुझाव रखने के लिए अनगिनत मुद्दे है..जिसपर बोला जा सकता है. चाहे वो दिल्ली का प्रदूषण हो या गुज़रात के चुनाव.दिन ढलता है और एक नयी सुबह एक नए मुद्दे को जन्म देती है. देश तरक्की के रास्ते पर है, सबका विकास हो रहा है, ठंड आ रही है, दुनिया में कही ना कही आतंकवादी हमले हो रहे है कांग्रेस और भाजपा में खींचातान जारी है खैर कहने के लिए दुनिया चल रही है और चलती भी रहेगी लेकिन देश का भविष्य यानी कि युथ की कोन सुन रहा है एक तरफ सरकार के उपक्रमो के जरिये देश मैं रोज़गार बढ़ाने की कोशिश कर रहे है और उसमें भी इंजीनियरिंग के स्टूडेंट्स तो नौकरी पाने की आस भी छोड़ चुके हो लेकिन इसमें गलती किसकी है उस स्टूडेंट की जिसने इंजीनियरिंग में एडमिशन लिया, या फिर उसकी जिसने उसका एडमिशन करवाया, या फिर उस एक इंसान की जिसने हमारे माता पिता से ये कहा इंजीनियरिंग में काफी स्कोप है ये करवादो। असल बात ये है कि आज  दिन देश के 80 फीसदी इंजीनियरिंग के स्टूडेंट्स के पास रोज़गार नही है. हमे उस एक खामी को ढूंढना होगा जिस की वजह से बेरोज़गारी नाम की समस्या सामने आयी है… ये मेरा पहला लेख है अगर पसंद आये तो प्लीज फीडबैक जरूर दे।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.