कॉलेज के अंतिम दिनों में।

Posted by Ghanshyam Kumawat
November 12, 2017

Self-Published

उस  रात  बिस्तर  का  मोह  छोड़  वो  छत  पर  जा  बैठा !
नीले  आसमां  के  नीचे  कटी  पतंग  बन  बैठा !
ठंडी  हवा  का  हर  झौंका  चुभ  सा  जाता,
चांदनी  में  बनी  हर  परछाई  से  वो  डर  सा  जाता !
आज  ही  था  कॉलेज  का  अंतिम  दिन ,
दिल  बहलाता  मुस्कुराता  और  फिर  सहम  सा  जाता !
 
वो  रात  ख्वाबो  में  बीत  गई,
सुबह  की  पहली  किरण  ने  ख्वाब  तोड़  दिया,
और  लाकर  इस नाविक को  दुसरे  छोर  छोड़  दिया !
 
जिंदगी  ने  उसे  कांटे  दिए  फूल  दिया,
नफ़रत  दी  प्यार  दिया,
उसने  इसे आज  नई जिंदगी नाम दिया  !!!!!!!!!
  
हर  शरारत  कही  छुप  सी  गई,
हर  मस्ती  बदल  सी  गई !
समंदर  की  लहरों  के  बीच  जा  खड़ा  हुआ  वो ,
लहरे  भी  मानो  उसकी  व्यथा  समझ  सी  गई !
जल  की  हर  कल  कल  में  एक  ही  आवाज  थी ,
नई  जिंदगी  मिल  गई  , नई  जिंदगी मिल गई !!!!!!!!!!!

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.