तीसरा संविधान दिवस खामोश

Posted by Ravindra Mina
November 26, 2017

NOTE: This post has been self-published by the author. Anyone can write on Youth Ki Awaaz.

सरकार 3rd संविधान दिवस में खमोश बस मानव संसाधन मंत्री जी मूल कर्त्तव्य पाठ का उपदेश ट्विटर पर दिए है । चाय के साथ सुबह न्यूज़ पेपर अंग्रेजी और हिंदी दोनो में संविधान दिवस की जगह विधि दिवस मात्र दिखा ओर सरकार के प्रचार वाले पोस्टर नदारद थे । अब यह कोई नया दिवस का साल है ।#संविधानदिवस:- 26 नवम्बर 1949 को संविधान सभा ने संविधान के मसौदे को अंगीकार ,अधिनियमित किया
#संविधान के मायने:-एक लिखित किताब जो शासन के मूलभूत नियम और शासित होने वाले नागरिकों को मूलभूत अधिकार देती है । …..संविधान मात्र एक किताब है उसमें प्राण सरकारे ओर न्यायपलिका एवम अच्छे लोग फूंकते है । यही नीति नियंतावो की मान्यता थी ।
…………..संविधान के #फ्रेमवर्क में सरकार के नियम और संसद दवरा बने अधियनियम की (legal interpretation)#कानूनीव्यख्या करना #उच्चतमन्यायालय का काम है । जिसमे मूलाधिकार पर मुख्यतया SC संसद और सरकारो के नियम (क्षेत्र बाहर ) ultra-vires करता है ।
◆SC ने मूलाधिकारों की व्यख्या कर कर इतना विस्तारित कर दिया है कि आमआदमी को तो मूल ही नही पता उसे फिर #सोने का अधिकार कहा पता चलेगा ।

Sc/st/obc के मायने:-

◆sc/St/obc को आरक्षण सरकार एग्जीक्यूटिव आर्डर से देती आई है जिसमे संविधान के अनुच्छेद 13 के विधि शब्द का बल है जो इंद्रा साहनी केस ( अब तक कि आरक्षण पर सबसे बड़ी बेंच ,9 मेंबर) में भी घोषित हुआ है । और उसे SC मूल अधिकार 15 एंड 16 के आधार पर खारिज करता रहा है । ओर सरकारे  नेहरू जी से लेकर आजतक संविधान संशोधन करती रही है ।

वर्तमान:-  #पदोन्नतिआरक्षण वाद जो अब संविधान पीठ (5 मेंबर बेंच) सुनेगी वह # M नागराजन वाद 2006 की मूल अधिकार 16(4) ,16(4A),16(B) की व्यख्या को पुनः देखेगी जिससे प्रमोशन में 3 शर्ते आई
◆अतः संविधान की व्यख्या ओर public policy में सामंजस्य होना जरूरी है नही तो संविधान मात्र कानूनी शब्द बनकर रह जाते है ।

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.