प्यार और दोस्ती पर लिखी बेहतरीन नॉवेल ‘विद यू विदाउट यू’

Posted by Sudhakar Ravi
November 26, 2017

Self-Published

कवर पृष्ठ

कभी-कभी दोस्ती को प्यार समझ लेना आसान होता है. कभी प्यार को प्यार समझ पाना काफी मुश्किल. प्यार और दोस्ती में  बहुत महीन अंतर होता है, जो ऊपर से तो एक जैसा दिखता है लेकिन वह अंतर गहराई में जाकर पता लगता है. किसी के लिए उस महीन अंतर को न समझ पाना उसके जिंदगी को बदल देने के लिए काफी होता है.दोस्ती कब प्यार बन जाये इस पर कुछ कह पाना मुश्किल होता है. किसी के लिए चाहत,समर्पण,भरोसा, कर के उसका प्यार हासिल किया जा सकता है यह भी निश्चित रूप से नहीं कहा जा सकता है.

हाल में ही दोस्ती और प्यार पर लिखी एक बेहतरीन किताब पढ़ने को मिली ‘विद यू विद आउट यू’. लेखक प्रभात रंजन अपने पहले ही किताब में दोस्ती और प्यार के द्वंद में बुनी गयी कहानी से मुरीद कर देते हैं. त्रिकोणीय प्रेम में लिखा गया यह हिंदी उपन्यास तीन किरदारों के आसपास घूमता है- रमी , निशिन्द और आदित्य. कहानी तीनों के बचपन से शुरू होती है. स्कूल लाइफ में की गयी मस्तियाँ हैं , उनकी बदमाशियां है. उनका बेपरवाह, आजाद घूमना और फिर एक दिन उनके दोस्ती का प्यार बन जाना. बचपन से शुरू होकर कहानी कॉलेज, जॉब, ऑफिस तक जाती है. साथ ही अनकहे और दिलचस्प किस्से से पाठक को जोड़ती जाती है. किताब हमें भारत के कई शहर ले जाती है साथ ही उन शहरों के दिलचस्प और अनसुने तथ्यों से रूबरू कराती है.

एक प्रेम कहानी के साथ ‘विद यू विद आउट यू’ एक विशेष मुद्दे पर भी पाठक से संवाद करती नज़र आती है. सेक्सुअल एब्यूजमेंट पर आज महिलाएं ज्यादा मुखर होकर बोल पा रही हैं लेकिन फैमिली में हुए सेक्सुअल अबुसेमेंट पर मुखरता सामने नहीं आ पाता है. परिवार की बदनामी के करना केस दर्ज नहीं हो पता. प्रभात रंजन इस मसले को कहानी से संजीदगी से जोड़ते हुए अपनी बात स्पष्ट और प्रखर रूप से करते हैं. सेक्सुअल अबुसेमेंट एक अपराध है चाहे बहार हो या घर में.

 

प्रभात रंजन

किताब की भाषा युवा पाठकों को पसंद आने वाली है. हिंदी के साथ अंग्रेजी के भी शब्दों का बखूबी इस्तेमाल किया गया है. युवा लेखकों द्वारा वर्तमान में आ रही हिंदी उपन्यास से इतर इसके कथ्य में नयापन है. उपन्यास शुरुआत से ही पाठकों को बांधे रखती है। समय-अंतराल में सभी चरित्रों का चित्रण लाजवाब है। प्यार और दोस्ती की कड़ियों एक बेहतरीन कथानक का निर्माण करती है.

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.