बाजार… !

Posted by Abhimanyu Raj
November 13, 2017

Self-Published

ये आँखे देख रही थी सब करीब से,
कुछ बदलाव जो लग रहे थे अजीब से |

बदल रहे थे सब कुछ,
वक्त कदर और हालात,

उसी वक्त के साथ बदल रहे थे, अनुभवएहसास और जजबात |

बिकरहे थे मोड पे,

अदब इज्ज़त और सत्कार,
पैसे से खरीदे जा रहे थे,
ईश्क मोहब्बत और प्यार |

तार-तार हुये जा रही थी,
शर्म हया और लिहाज,
दब रही थी उस वक्त हर,
शिशक चीख और आवाज |

लूटे जा रहे थे सरेआम,
रंग रूप और शाज,
आशू बहा रही थी,
परम्परायें रीत और रीवाज |

बन्द कमरे मे खो रहे थे,
दस्तूर दिनचर्या और व्याबहार,
और इस तरह से फल फूल रहे थे,
“बासना के बाजार”…!
©अभीमन्यू राज सिंह

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.