भारत में बुलेट ट्रेन ; सुविधा या दुविधा

Posted by Sunit Mishra
November 7, 2017

Self-Published

बुलेट ट्रेन आज लोगों के लिए एक पहेली बनी हुई है,बहुत सारे लोग इस मुद्दे पर सामंजस्य नहीं बैठा पा रहे है, अौर कुछ बुद्धिजीवी इसका समर्थन तो कुछ बुद्धिजीवी इसका पुरजोर तरीके से विरोध करते हुए नजर आ रहे है।
इस अवांछित परिस्थिति के सामने आ जाने के पश्चात् इस मुद्दे को प्रकाशयुक्त करना काफी जरुरी हो गया है। भिन्न -भिन्न तरह के विचार इस मुद्दे पर आये होंगे या आयेंगे , पर मैं कुछ तथ्य इस मुद्दे पर रखना चाहता हूँ।
मैं भारत में बुलेट ट्रेन के कुछ फायदे बताना चाहता हूँ :-
 
1. कई लोगों का यह मानना है कि हवाई जहाज से सफर करने में एक घण्टा का समय लगता है अौर बुलेट ट्रेन से सफर करने में 2- 3 घण्टे का समय लगेगा तो फिर बुलेट ट्रेन की क्या आवश्यकता है ? जबकि भाड़ा भी हवाई जहाज के बराबर या उससे ज्यादा ही होगा।
जबाब यह है कि :- अगर आप हवाई जहाज से यात्रा करते है तो उड़ान की जो अवधि है निश्चित ही 1घन्टा है परन्तु उड़ान भरने से पहले हर यात्री को बहुत सारे सुरक्षा घेरों अौर जाँच प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है जिसमें कम से कम 1-2 घण्टे का समय लगता है   अंदर आते अौर बाहर जाने वाले समय को जोड़कर ।
                         अपितु हवाई जहाज अगर अहमदाबाद से उड़ान भरता है तो सीधे मुंबई ही ले जाकर छोड़ता है तो जो यात्र अहमदाबाद अौर मुंबई के बीच से  आते है उनका क्या ? वो या तो 2-3 घण्टे सफर करके पहले मुंबई या अहमदाबाद पहुँचते है फिर वहाँ से हवाई जहाज लेते है। बुलेट ट्रेन के इस रूट में तकरीबन 12 ठहराव वापी ,सुरत , वडोदरा , बोईसर इत्यादि जैसे छोटे -बड़े शहर भी होंगे इन जगहों के निवासी इस परियोजना के मदद से 2-3 घण्टों में मुंबई या अहमदाबाद आ -जा सकते है जिसमें अभी 5-6 घण्टे लग जाते  है।
 
2. Feedback Infra Pvt. Ltd. के अध्यक्ष (chairman ) विनायक चटर्जी ने अपने एक Indian Express के लेख में लिखा है कि अगर यह प्रोजेक्ट शुरू होता है तो इससे Localised Manufacture को बढ़ावा मिलेगा अौर मुझे यह लगता है कि इससे भारत में बंद हो रहे छोटे अौर मझोले उधोगो को भी इसका लाभ मिल सकता है।
इसके अलावा Make In India के तहत Transfer of Technology (ToT) के वजह से Japan Construction अौर Service के लिए भारत के ही कल- करखानो का उपयोग कर इस तकनीक को विकसित करेगा , जिससे भारत की हजारों कंपनियाँ लाभान्वित होंगी ।
 
3.रोजगार (Employment):- इस समय भारत के लिए रोजगार उत्पन्न करना बहुत ही आवश्यक है यह तो हम सब जानते ही है, अौर इस पर चर्चा भी करते है अगर यह परियोजना भारत में विकसित होती है तो इससे कम से  कम 4000 प्रत्यक्ष रोजगार , 20000 अप्रत्यक्ष रोजगार पनपेगा अौर सिर्फ़ 20000 के अास-पास कंसट्रक्शन वर्क्स की जरुरत होगी,इसके अलावा इस परियोजना के रख- रखाव में भी भारतीय लोगों के लिए काफी रोजगार के अवसर उत्पन्न होंगे ।
 
4.बुलेट ट्रेन एक Dream Project है :- कुछ परियोजनाएं ऐसी होती है जो प्रत्यक्ष रूप से आपकी अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ नहीं करती परन्तु उनके कार्यों के द्वारा संपूर्ण देश स्वाभिमान महसूस करता है , ऐसी ही कुछ इसरो (ISRO) की कार्यशैली है।ह्म अौर आप जहाँ घर पर, आफिस में एवं सोशल मीडिया पर बैठे इसरो को उसके अतुलनीय कार्यों के लिए शाबाशी देते फिरते है अौर गर्व महसूस करते रहते है, वह भी कुछ ऐसा ही प्रोजेक्ट है ।
कुछ लोग यह विचार भी रखते है कि रेल तो चल नहीं पा रही है अौर बुलेट ट्रेन चलायेंगे, वो लोग इसरो के बारे में ऐसा नहीं बोल पाते क्योंकि इसरो इस समय व्यवस्थित रुप से कार्य कर रहा है अौर उसका कार्य सबको दिख रहा है  जबकि वहाँ भी ये कहा जा सकता है कि जिस देश में लोग भूखे मर रहे है वहाँ अंतरिक्ष पर जाने की या सेटेलाइट भेजने की क्या जरुरत है ? यहीं बुलेट ट्रेन के साथ भी होगा जिन लोगों की दूरदृष्टि या दूरदर्शिता थोड़ी कम है वो ही ऐसे सवाल कर रहे है।
 
5.पर्यावरण व पर्यावरण हितैषी (Environment &Eco- Friendly):- प्रदूषण जहाँ
भारत में जी का जंजाल बना हुआ है अौर वहीं भविष्य के दृष्टिकोण से उर्जा की भी कमी  सता रही है , ऐसी परिस्थिति में बुलेट ट्रेन बिल्कुल सटीक बैठती है।
    जितना प्रदूषण (कार्बन डाइआक्साइड ) साधारण ट्रेनों , हवाई जहाजों ,कारों , बसों से होता है उसका मात्र आठवां हिस्सा (1/8) ही बुलेट ट्रेन से होता है।
 
6. स्थान उपयोग (Space Utilisation):-एक छह लेन (Six- Lane) के हाईवे बनाने में जितना जगह लगता है उससे काफी कम जगह में दोहरी रेल लाईन (Double Rail Track ) बिछाई जा सकती है , अौर जितने यात्री छह लेन की सड़क पर सफर करेंगे उससे कहीं ज्यादा यात्री इस दोहरी रेल लाईन पर सफर करेंगे ।
 
7. सुरक्षा (Safety):- भारत में अत्यधिक भीड़ अौर खराब सामंजस्य की वजह से रेल दुर्घटना अौर सड़क दुर्घटना  बहुत ही अाम बात है , यहाँ हर रोज कोई ना कोई दुर्घटना घटित  होती है।
    जापान की बुलेट ट्रेन सन् 1964 से कार्यरत है अौर कुल 25000 किलोमीटर का रेल जाल बिछा हुआ है , परन्तु अब तक इसमें एक भी दुर्घटना की खबर नहीं आई है। यह बुलेट ट्रेन भूकंपखे समय उसे पता लगाकर अौर ट्रेन को तुरंत रोकने की सुविधा से निर्मित होगी। तो आप अगर अपनी यात्रा को सुखद अौर सुरक्षित बनाता चाहते है तो बुलेट ट्रेन आपके लिए सर्वोत्तम सफर का साधन होगा।
 
8. दूसरे शहरों का विकास आौर शहरी विस्तार (Development of other Cities and Urban Expansion):- जिन शहरों के आस-पास से बुलेट ट्रेन गुजरेगी अौर जहाँ भी उसका ठहराव होगा , इन शहरों के विकास में चार चाँद लग जायेंगे।
इन छोटे शहरों के लोग भी बढ़ -चढ़ कर अपने कारोबार को बढ़ा सकेंगे , अौर कुछ नयी व्यवस्थाएँ भी प्रफुल्रित होंगी ।
 
9.पर्यटन (Tourism):-पर्यटन के द्वार भी अब इन छोटे -छोटे शहरों  के लिए खुल जायेंगे जो अब तक अनदेखे से रह गये है , हालांकि वहाँ पहले से रेल या सड़क मार्ग की सुविधा होगी किन्तु बुलेट ट्रेन की वजह से अब इसमें अत्यधिक वृद्धि होनी तह है।
 
10.भीड़ (Rush):- मुंबई बहुत भीड़ -भाड़ वाला इलाका है , विरार , थाने इत्यादि के लोग वहाँ से निकटतम ठहराव की अोर प्रस्थान कर सकते है जो सिर्फ़ व्यापार के लिए अौर आवागमन में सुविधा के लिए वहाँ रह रहे है।
 
11. नये रास्ते खुलेंगें (Open New Avenues):- भारत में अगर मेट्रो ट्रेन पर नजर डालें तो यह एक बहुत ही परिपक्व रेल सुविधा है , परन्तु यह एक अलग व्यवस्था के अंतर्गत है अगर हम इसकी तुलना बस या E.M.U.Train  से करे तो यह नाइंसाफी होगी। अपितु इस परियोजना को भी अगर यह सोचकर रोक दिया जाता कि जब E.M.U. Train पहले से है तो मेट्रो की क्या जरुरत है उसको ही उन्नयन (Upgrade) करो, तो आज देश को सबसे सफल साधनों में सुमार इस मेट्रो की कमी महसूस होती।
                          आज भारत में  मेट्रो ने अपनी जड़ें कुछ यूँ जमा ली है कि अब हर छोटे -बड़े शहर अपने आप को मेट्रो से जोड़ना चाहते है , जैसे बैंगलोर , लखनऊ ,नागपुर , पटना इत्यादि।ठीक उसी तरह हर राज्य अपने आप को विकसित करने के लिए इस परियोजना की अोर खींचा चला अायेगा, केन्द्र अौर राज्य मिलकर विकास में कदम से कदम मिलाकर चलेंगे ।
 
12. बुलेट ट्रेन बनाम मेट्रो रेल सेवा, खर्च अौर कर्ज का ब्यौरा (Bullet Train Vs Metro Rail Costing and Loan Details):- अगर खर्च की तुलना हम करे तो अौसतन प्रति किलोमीटर निर्माण का मूल्य (Average Per Kilometre Cost of Construction) लगभग रूपया 140 करोड़ अौर विजयवाड़ा मेट्रो का (Average Per kilometre Cost of Construction) लगभग रुपया 288 करोड़ प्रति किलोमीटर है।
                                       Japan International Cooperation Agency (JICA) जिसे पहले (JBIC) के नाम से जाना जाता था , उसने दिल्ली मेट्रो को फेज -1 के लिए 60 प्रतिशत फण्ड दिया था जो छह हिस्सों में था अौर पहला राउंड 1997 में शुरू हुआ था।
                     लोन का हर साल का ब्याज दर (Interest Rate )1.2 % था अौर पुनर्भुगतान की अवधि (Repayment Period) 30 साल का था,तथा अधिस्थगन अवधि (Moratorium Period) 10 साल का था । जबकि बुलेट ट्रेन परियोजना में पुनर्भुगतान की अवधि (Repayment Period)   50 साल का है, तथा अधिस्थगन अवधि (Moratorium Period)
15 साल है, अौर ब्याज दर(Interest Rate) 0.1 प्रतिशत है।
               अगर आप इसका तुलनात्मक अध्ययन करें तो आप पिछली सरकार को लचर पायेंगे अौर इस सरकारखो प्रोत्साहित करते नहीं थकेंगें। हाँ परन्तु इन दोनों अवस्थाओं में अगर Yan(Japanese Currency ) के मूल्य में बदलाव होता है तो कर्ज की राशि मेस भी बदलाव होगा अौर लोन की कीमत बढ़ या घट सकती है अौर यह दोनों ही हालातों में है।
                  बुलेट ट्रेन की निर्माण की कुल राशि 1लाख 10 हजार करोड़ रुपया है जिसमें 88 हजार करोड़ रुपये का लोन जापान दे रहा है।
 
13. गलत अनुभूति (Wrong Perception):- भारत में तमाम लोग कई तरह के गलत अनुभूति बनाए हुए हैं जैसे रेल व्यवस्था को इसी पैसे को लगाकर पहले सुदृढ़ करो फिर बुलेट ट्रेन चलाना चाहिए। ऐसे लोगों को यह बताना चाहता हूँ कि यह परियोजना भारत के Make In India अौर जापान के तकनीक अदला-बदली  (Technology Exchange) के वजह से हुआ है जहाँ नई तकनीक जिसमें बुलेट ट्रेन को विकसित करने का प्रावधान है इस पैसे का इस्तेमाल हम अपनी रेलवे को दुरूस्त करने के लिए नहीं कर सकते हैं।
                        हा लेकिन सरकार को जरुर कुछ ऐसे प्रावधान लाने होंगे जिसमें भारतीय रेलवे की तस्वीर बदल जाये अौर इसके लिए धनराशि का भी प्रबंध करना चाहिए।
 
14. भारत को विश्व गुरु बनाने के लिए तकनीकी उन्नयन (Technology Upgradation for Viswa Guru):- जहाँ आज  हम अंतरिक्ष में,G.D.P. में , विकास में, खेल में,विज्ञान के क्षेत्र में , कला एवं तकनीक के क्षेत्र में अग्रसर हो रहा है अौर विश्व गुरु बनने के कगार पर खड़ा है ऐसे में हम अगर बुलेट ट्रेन जैसी तकनीकी में पिछे रह जाये तो यह  हमारे दूरदर्शिता के ऊपर बहुत बड़ा लांछन होगा।
 
बुलेट ट्रेन भारत के लिए दोनों हाथों में लडडू के समान (Win-Win Condition) है अपितु हम इसके द्वारा होने वाले कुछ दुष्प्रभावों को भी अनदेखा नहीं कर सकते हैं। सरकार का यह दायित्व बनता है कि इन दुष्प्रभावों को समाप्त कर या उनके प्रभावों को कम करके इस परियोजना को सुव्यवस्थित तरीके से चलायें। 
रही बात की बुलेट ट्रेन सुविधा या दुविधा है तो अब अाप खुद अंदाजा लगा सकते है। 
 
Image may contain: 1 person
                                                                                                                    सुनीत कुमार मिश्रा
                                                                                                                         व्याख्याता
                                                                                                                  यांत्रिक अभियांत्रिकी विभाग
                                                                                             आई.एम.एस.इन्जीनियरिंग कालेज , गाजियाबाद

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.