मां, मैं जीना चाहती हूं……

Posted by bhavna jha
November 16, 2017

Self-Published

मां, मां, मुझे मत मारो मां, मैं ज़िदगी जीना चाहती हूं, दुनिया देखना चाहती हूं।

मां, मैं उम्मीदों के आकाश में उड़ना चाहती हूं,   आशाओं के समुद्र में गोते लगाना चाहती हूं                 मां, मैं जीना चाहती हूं।।

मेरा वादा है ये,                                                     मेरे सपने होंगे तुम्हारे,                                             मेरे ख्वाब होंगे तुम्हारे,                                           मेरी जिंदगी तुमसे शुरू होगी,                                   और तुम पर ही ख़त्म होगी।।

मां, पापा से कहना मैं उनका नाम                             रौशन करना चाहती हूं,                                           उनकी अधूरी इच्छाओं को एक नया                         आयाम देना चाहती हूं,                                            मां, मैं जीना चाहती हूं।।

मां, मेरी छोटी सी चाहत है,                                     मैं सूर्य का प्रकाश देखना चाहती हूं,                       दुनिया के रंग देखना चाहती हूं,                                 चिड़ियों की चहचहाट सुनना चाहती हूं,                     नदियों की कलकल, हवाओं की मस्ती को महसूस करना चाहती हूं,                                                   मैं संसार का सौंदर्य देखना चाहती हूं,                         मां, मैं तुम्हें देखना चाहती हूं,                             अपनी जननी के दर्शन करना चाहती हूं,                     मां, मैं जीना चाहती हूं।।

मां, मेरा दम घुट रहा है, मेरी आंखों के सामने अंधेरा छा रहा है,                                                               मेरी सांसें रुक रही हैं,                                             ये क्या हो रहा है, ये क्या हो रहा है……                       मां मुझे मत मारो, मुझे मार के तुम कैसे खुश रहोगी,     मुझे जीना है मां, मुझे जीना है………………………………………………………..!!!

मां, मैं जीना चाहती थी, तुमसे मिलना चाहती थी         पर मां तुम मत रोना, तुम मेरी चिंता मत करना,           मुझे अपनी ज़िदगी की परवाह नहीं,                         मैं तुम्हें खुश देखना चाहती हूं,                                 तुम्हें हंसते देखना चाहती हूं,                                   भले मैं तुम्हारे साथ नहीं,                                         पर तुम्हारी यादों में हमेशा ज़िंदा रहना चाहती हूं…………………….!!!

मेरी यह कविता उन असंख्य मासूम लड़कियों के लिए है जिन्हें कोख में ही मार दिया गया, ये उस देश की उन महिलाओं के लिए है जहां लोग मिट्टी की देवियों की तो पूजा करते हैं, पर जीती-जागती देवी का अपमान….. ये इस देश की उन लड़कियों के लिए है जिन्हें एक तरफ़ तो मां कहा जाता है, और दूसरी तरफ़ दहेज के लिए तड़पाया जाता है……                               क्या कुसूर है इन बेटियों का, यही कि परमात्मा ने उन्हें ममता का पर्याय बनाया, संसार के सृजन की शक्ति दी….                                                             क्या गुनाह है इनका जो दुनिया में आने से पहले ही इनका गला घोंट दिया जाता है…….. गुनाह इनका नहीं, गुनाह है इस समाज का जहां बेटियों के जन्म लेते ही मां-बाप उसकी शादी में दिए जाने वाले दहेज की चिंता करने लगते हैं, और यही दहेज की चिंता, या कहें तो इसी दहेज का डर उन्हें अपनी बेटियों को मारने के लिए मजबूर करता है। अरे, मैं तो कहती हूं कि लानत है ऐसे समाज पर, ऐसी इंसानियत पर जो एक मासूम की हत्या करने के लिए मजबूर करे…….                            इस समाज को कोई हक़ नहीं कि वह किसी के जीवन का निर्णायक बने…… अगर उस ईश्वर ने किसी को जीवन दिया है तो उसे पूरा हक़ है उसे जीने का…. और ये हक़ उससे कोई भी छीन नहीं सकता………..

Youth Ki Awaaz is an open platform where anybody can publish. This post does not necessarily represent the platform's views and opinions.